नई दिल्ली, जेएनएन। Delhi Assembly Election 2020: अध्यक्ष विहीन प्रदेश कांग्रेस (Congress) में गुटबाजी थमने का नाम नहीं ले रही है। मंगलवार को इस गुटबाजी का एक और नमूना सामने आया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व उपाध्यक्ष चतर सिंह ने ट्रैफिक चालान की राशि में हुए अप्रत्याशित इजाफे के खिलाफ कन्हैया नगर मेट्रो स्टेशन के पास त्रीनगर में एक धरने का आह्वान किया। 

बुधवार को प्रस्तावित इस धरने के निमंत्रण पत्र में उन्होंने दो ऐसे पूर्व अध्यक्षों जेपी अग्रवाल और अजय माकन का नाम दे दिया, जिनमें सीधे तौर पर 36 का आंकड़ा है। जैसे ही इस निमंत्रण पत्र की जानकारी अग्रवाल को पहुंची तो उन्होंने बिना पूछे ही अपना नाम डाले जाने की बात कह दी।

अब इस मसले को लेकर प्रदेश कांग्रेस के भीतर बबाल मच गया है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता जितेन्द्र कोचर ने पूर्व अध्यक्ष जेपी अग्रवाल के हवाले से एक बयान जारी कर कहा है कि जिस धरने में उन्हें बतौर मुख्य अतिथि बुलाया जा रहा है, वास्तव में उसके लिए उनकी सहमति ही नहीं ली गई है। अग्रवाल ने धरने में उपस्थित रहने से भी इन्कार कर दिया है। इस तरह की गुटबाजी से पार्टी को आगामी विधानसभा चुनाव में नुकसान होना तय माना जा रहा है।

धरने का आयोजन करने वाले चतर सिंह का कहना है कि जेपी अग्रवाल से इस संबंध में पूर्व में बात हुई थी। अब अगर वह कह रहे हैं कि नहीं आएंगे तो यह उनकी मर्जी है। अजय माकन भी धरने में शामिल होने आ रहे हैं।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप