नई दिल्ली। Delhi Election 2020 : 31 वर्षीय राघव चड्ढा ने दिल्ली के बाराखंभा रोड स्थित मॉडर्न स्कूल से पढ़ाई की है। इसके बाद उनका दाखिला लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में हो गया। यहां से चार्टर्ड अकाउंटेंट बनकर निकले। 2012 में कुछ दिनों के लिए देश लौटे तो अरविंद केजरीवाल से मुलाकात हुई। यहीं से सियासी सफर की नींव पड़ी। राघव का सपना भारतीय सेना में शामिल होना था। 2019 लोकसभा चुनाव में राघव दक्षिण दिल्ली से AAP प्रत्याशी थे। उनके सामने भाजपा के रमेश बिधूड़ी और कांग्रेस के बॉक्सर बिजेंदर सिंह मैदान में थे। बिधूड़ी ने सीट जीती। राघव दूसरे स्थान पर रहे। दिल्ली विधानसभा चुनाव में राघव राजेंद्र नगर सीट से AAP प्रत्याशी हैं। इस सीट पर भाजपा और कांग्रेस भी मजबूती से चुनाव लड़ रही है। AAP पांच साल के रिपोर्ट कार्ड और भविष्य की रूप रेखा का गारंटी कार्ड लेकर मैदान में उतरी है। राघव किस तरह लड़ रहे हैं, यह लड़ाई और इलाके को लेकर क्या है, उनका एजेंडा। इस पर वीके शुक्ला ने राघव चड्ढा से बात की है। प्रस्तुत हैं बातचीत के मुख्य अंश।

आप राजेंद्र नगर से चुनाव लड़ रहे हैं, यहां की समस्याओं के बारे में कितना जानते हैं और समस्याओं को हल कराने की क्या योजना है?

-मैं यहीं पला बढ़ा हूं। यहां की हर समस्या से वाकिफ हूं। यहां हर कॉलोनी की अलग अलग समस्या है। यहां के नाले को ठीक करने का काम निगम सालों से नहीं कर पाया, जबकि भाजपा 17 साल से निगम में है। मेरा वादा है कि इस बार सरकार बनते ही 100 दिन के भीतर नाले की दिक्कत को दूर कर दिया जाएगा। पुराना राजेंद्र नगर हो या न्यू राजेंद्र नगर, यहां लावारिस कुत्तों की समस्या है। बुद्धनगर, टोडापुर आदि इलाकों में सीवर और पानी की समस्या है। पूरे विधानसभा क्षेत्र को मैंने सात हिस्सों में बांटा है और सभी के लिए घोषणा पत्र जारी करूंगा।

आप युवा चेहरा हैं, युवाओं का साथ किस तरह से मिल रहा है?

-प्रचार अभियान में युवा खुलकर सामने आ रहे हैं। युवाओं को अच्छा लग रहा है कि एक युवा नौकरी छोड़कर सेवा देने के लिए हमारे बीच आ रहा है। युवाओं का भरपूर समर्थन मिल रहा है, इसके लिए उनका शुक्रिया।

जेएनयू और जामिया के युवा प्रदर्शन कर रहे हैं, क्या उनसे भी मिल रहे हैं आप?

-मेरे क्षेत्र में ऐसा प्रदर्शन नहीं है। मेरे साथ तो क्षेत्र का युवा चल रहा है।

काफी कम उम्र में आपने राजनीति को चुना, इसकी क्या वजह है?

-दरअसल मैंने राजनीति को नहीं चुना, राजनीति ने मुझे चुना है। मैं ऐसे परिवार और समाज से आता हूं जहां राजनीति को अच्छा नहीं माना जाता। बचपन में मेरी टीचर मुझसे पूछती थीं कि बड़े होकर क्या बनोगे तो मैं कहता था फौज में जाऊंगा और देश की सेवा करूंगा। देश की सेवा करने का भाव शुरू से ही था। अब अर¨वद केजरीवाल का साथ मिला है, तो लगता है कि दिल्ली की सूरत बदलने में मेरा भी थोड़ा सा योगदान है।

दिल्ली और अपनी सीट को लेकर क्या सोचते हैं?

-एक बार फिर से दिल्ली के लोगों का प्यार और आशीर्वाद मिलने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं लोग कह रहे हैं, अच्छे बीते पांच साल लगे रहो केजरीवाल। इस बार जिस तरह से लोगों में आप के प्रति स्नेह और आशीर्वाद दिख रहा है। उससे हमें पूरा भरोसा है कि इस बार 67 का आंकड़ा भी हम पार करेंगे।

विपक्षी आरोप लगा रहे हैं कि राघव का राजेंद्र नगर विधानसभा क्षेत्र से कोई नाता नहीं, वह बाहर के हैं?

-मेरा परिवार राजेंद्र नगर इलाके में 65 साल से रहता है। यहीं पर स्थित गंगाराम अस्पताल में 31 साल पहले मेरा जन्म हुआ था। मेरे पिता जी और खानदान के लोग पुराना राजेंद्र नगर और नए राजेंद्र नगर में रहते हैं। मेरा ननिहाल नारायणा में है, जो इसी विधानसभा क्षेत्र का हिस्सा है। यहां की गलियों में मैं बचपन से खेला हूं, यहीं पर छोले-भटूरे, कुल्फी, इडली खाई है। इस इलाके के पार्को में क्रिकेट खेला है। मेरा परिवार इस विधानसभा क्षेत्र के सबसे पुराने परिवारों में आता है। भाजपा के प्रत्याशी जरूर इस क्षेत्र में शिफ्ट हुए हैं और यहां रहना शुरू किया।

भाजपा अनधिकृत कॉलोनियों में लोगों को मालिकाना हक दिलवाने का कानून लाई, इसे कैसे देखते हैं?

-भारतीय जनता पार्टी छह साल बाद जागी, क्योंकि दिल्ली चुनाव आ गए। 6 साल तक उन्होंने कच्ची कॉलोनियों के बारे में नहीं सोचा। लेकिन मेरा दावा है कि अगर कोई नेता है, जो अनधिकृत कॉलोनियों को पक्का करेगा और यहां के लोगों को सुविधाएं देगा तो वो अर¨वद केजरीवाल हैं।

आरोप है कि आप ने चुनाव जीतने के लिए सिर्फ 4 माह पहले कई मुफ्त की योजनाएं शुरू कीं?

-हम जनता के फायदे के लिए पांच साल काम करते रहे। हम अपने लिए 500 करोड़ रुपये का विमान नहीं खरीदते। जैसा गुजरात में भाजपा के मुख्यमंत्री ने खरीदा। हम जनता का पैसा उसी पर खर्च करते हैं। यह वाकई जनकल्याण का चुनाव है। हम दिल्ली को खुशहाल बनाना चाहते हैं।

क्या एनआरसी का मुद्दा दिल्ली चुनाव पर भी असर डालेगा?

-चुनाव बिजली, पानी, सड़क, सीवर, शिक्षा व स्वास्थ्य पर हो रहा है।

इन दिनों केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह अपने कार्यक्रमों में कह रहे हैं कि दिल्ली में न तो वाईफाई लोगों को मिल रहा है और न ही सीसीटीवी कैमरे ही दिखाई दे रहे हैं। इस पर क्या कहेंगे?

-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भतीजी का दिनदहाड़े बैग छीन लिया गया था। दिल्ली की पुलिस इस तरह की घटनाओं को रोक नहीं पाती, वह पीएम की भतीजी को भी सुरक्षा नहीं दे पाई। फिर मुख्यमंत्री अर¨वद केजरीवाल द्वारा लगाए गए सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से चोर पकड़ा गया। यह बात अमित शाह को बतानी चाहिए।

शाहीनबाग प्रदर्शन पर क्या कहेंगे?

-भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं है, वह चाहती है चुनाव काम और विकास के मुद्दे से हट जाए। जो मुद्दे आम लोगों को छूते हैं, उन पर बात नहीं हो। जनता को इन चीजों से मतलब नहीं है। हम चाहते हैं कि चुनाव बिजली-पानी पर हो, शिक्षा स्वास्थ्य पर हो। भाजपा ने दूसरे प्रदेशों के चुनाव में राष्ट्रीय मुद्दे लाने की कोशिश की थी, लेकिन जनता ने नकार दिया।

कांग्रेस और भाजपा को लेकर आपका क्या कहना है?

-कांग्रेस तो कहीं है ही नहीं। उसको वोट देने का मतलब वोट खराब करना है। मुङो नहीं लगता कि कोई भी कांग्रेस को वोट देकर अपना वोट बर्बाद करना चाहेगा। भाजपा इस चुनाव में बहुत पीछे है। उसके पास न नेता हैं और न मुद्दे। उनके पास मुख्यमंत्री पद का चेहरा भी नहीं है।

राजेंद्र नगर की इस सीट पर आपकी लड़ाई भाजपा के पुराने नेता आरपी सिंह से है। किस तरह की चुनौती मानते हैं?

-यह सही है कि आरपी सिंह उम्र में बड़े हैं। लेकिन, राजेंद्र नगर विधानसभा क्षेत्र मेरी जन्मभूमि है। विधानसभा का पूरा इलाका मेरा परिवार है। क्षेत्र की सेवा करने का मौका मिला है, तो उसे बखूबी पूरा करूंगा। वोट मांगकर जनता को भूल जाना, पांच साल तक नजर नहीं आना, भाजपा की तरह झूठी बातें करना और जनता को बरगलाना हमें नहीं आता है।

 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस