नई दिल्ली, एजेंसी। Delhi Assembly Election Exit Poll:  दिल्ली में 70 सीटों के लिए मतदान खत्म हो चुका है। चुनाव खत्म होने के बाद दिल्ली के चुनावी नतीजे क्या कहते हैं यह हम आपको बताएंगे। बस इसके लिए आपको करना होगा थोड़ा सा इंतजार। एक्जिट पोल के शुरुआती रुझानों के मुताबिक दिल्ली में फिर से आम आदमी पार्टी की सरकार बनती दिख रही है।

Delhi Election 2020 Exit Poll Live: एग्जिट पोल में AAP को बढ़त, BJP के वोट प्रतिशत में इजाफा

सी वोटर्स और एबीपी के ताजा अपडेट के अनुसार

आप- 51 से 65 सीटें

भाजपा- 3 से 17 सीटें

कांग्रेस - 0 -3

रिपब्लिक भारत :

आम आदमी पार्टी - 48 से 61 सीटें

भाजपा - 9-21

कांग्रेस- 0-1 

दिल्ली चुनाव की यह लड़ाई काफी रोचक मोड़ पर पहुंच गई है। आम आदमी पार्टी को इस लड़ाई में 48 से 61 सीटें मिलती दिख रही हैं। वहीं भाजपा को पिछली लड़ाई के मुकाबले बढ़त लेती दिख रही है। वहीं, कांग्रेस की बात करें तो वह इस लड़ाई में खाता भी नहीं खुल रहा है। अगर सीटें जीती भी तो वह एक सीट जीतती दिख रही है।

ABP :

आम आदमी पार्टी - 49-63

भाजपा- 5-19

कांग्रेस - 0-4

एबीपी के मुताबिक आम आदमी पार्टी को 49 से 63 सीटें मिलती दिख रही हैं। वहीं भाजपा की सीटें कुछ बढ़ती दिख रही हैं। इसे 5 से 19 सीटें मिल सकती हैं। इधर कांग्रेस को भी चार सीटें एबीपी को मिल सकती हैं।

आज तक के अनुसार वोट फीसद का एक अनुमान

आप 56%

भाजपा -35%

कांग्रेस- 5%

हालांकि बता दें कि भारत निर्वाचन आयोग ने मतदान समाप्ति की अवधि से 48 घंटे पहले तक किसी भी तरह के एक्जिट पोल (Exit Poll), ओपिनियन पोल (Opinion Poll), किसी पोल सर्वे (Poll Servey) के परिणामों तक पर रोक लगा रखी है। यह जानकारी आयोग के सचिव एनटी भूटिया ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेजे गए अपने पत्र में दी है। मतलब, आज हो रहे दिल्ली चुनाव का एक्जिट पोल मतदान प्रक्रिया पूरी तरह से खत्म होने के बाद देर शाम को जारी होगा। यहां हम आपको एग्जिट पोल की हर जानकारी उपलब्ध कराएंगे।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेजे गए अपने पत्र में उन्होंने स्पष्ट लिखा है, मतदान 8 फरवरी को सुबह आठ बजे से शाम 6.00 बजे होगा। इस अवधि को ऐसे अवधि के रूप में अधिसूचित किया गया है, जिसके दौरान राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के विधानसभा के साधारण निर्वाचन के संबंध में किसी भी प्रकार के एक्जिट पोल का संचालन तथा प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया द्वारा इसका प्रकाशन या प्रचार अथवा किसी भी अन्य तरीके से उसके प्रसार पर प्रतिबंध रहेगा।

यह रोक 6 फरवरी की शाम से लगाई गई है। इस बाबत विभागीय सूत्र अलग से बताते हैं कि इस पर निगरानी रखने के लिए टीमें बनाई गई हैं जो पूरी मॉनिटरिंग करेंगी। अधिकारिक सूत्र बताते हैं, एक्जिट पोल व पोल सर्वे करके मतदाताओं को गुमराह किया जाता है। मतदाता इसकी वजह से निष्पक्ष मतदान नहीं कर पाता। वह मतदान करने तक कन्फ्यूज रहता है। ऐसे में सही पार्टी और प्रत्याशी का चयन नहीं हो पाता। इन सारी बातों को ध्यान में रखते हुए आयोग ने यह कदम उठाया है। बताया जाता है कि मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय से भेजी गई रिपोर्ट पर भारत निर्वाचन आयोग ने यह कदम उठाया है।

दिल्ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस