नई दिल्ली [संतोष कुमार सिंह]। Delhi Election 2020 : दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 को लेकर प्रचार में जुटी भारतीय जनता पार्टी ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर हमला तेज कर दिया है। शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (National Register of Citizens) को लेकर चल रहे प्रदर्शन को लेकर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने शनिवार को विरोधी दलों को घेरते हुए कहा कि शाहीन बाग में देश को टुकड़े-टुकड़े करने की साजिश हो रही है। इस दौरान उन्होंने एक वीडियो भी दिखाया है।

इसी संदर्भ में संबित पात्रा ने इस वीडियो के शाहीन बाग प्रदर्शन से संबंधित होने का दावा भी किया है। उन्होंने बताया कि इस वीडियो में भारत के खिलाफ भाषण दिया जा रहा है। असम को भारत से अलग करने का आह्वान किया जा रहा है। वह प्रदेश भाजपा कार्यालय में मीडिया से बात कर रहे थे।

इस वीडियो को दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन से जोड़ते हुए उन्होंने कहा कि यह असम को भारत से अलग करने की साजिश की जा रही है। शाहीन बाग नहीं दिशाहीन बाग और तौहीन बाग है। यहां गैर मुस्लिमों के लिए कोई जगह नहीं है। यहां पर मीडिया पर हमला किया जा रहा है। 

विडियो में असम को अलग करने का दावा किया  

वायरल विडियो में जेएनयू के छात्र शरजिल इमाम ने कहा कि हमारे पास संगठित लोग हों तो हम असम से हिंदुस्तान को हमेशा के लिए अलग कर सकते हैं। परमानेंटली नहीं तो एक-दो महीने के लिए असम को हिंदुस्तान से कट कर ही सकते हैं। रेलवे ट्रैक पर इतना मलबा डालो कि उनको एक महीना हटाने में लगेगा...जाना हो तो जाएं एयरफोर्स से। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है।

संबित पात्रा ने कहा कि शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को कांग्रेस और आम आदमी पार्टी समर्थन दे रही हैं। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया कह रहे हैं कि वह शाहीन बाग के साथ हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस नेता राहुल गांधी को शाहीन बाग को लेकर अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। 

यहां पर बता दें कि दिल्ली विधानसभा चुनाव-2020 के तहत 8 फरवरी को मतदान होना है और 11 फरवरी को नतीजे घोषित किए जाएंगे। इस चुनाव में जहां आम आदमी पार्टी पांच साल बाद फिर सत्ता में वापसी की कोशिश में लगी है, तो भाजपा 21 साल के वनवास को खत्म करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहा है। वहीं, कांग्रेस पार्टी के पास वजूद बचाने का संकट, क्योंकि दिल्ली विधानसभा चुनाव-2015 में उसे 70 में से एक भी सीट नहीं मिली थी। 

दिल्ली चुनाव से जुड़ी खबरें पढ़ने  के लिए यहां पर करें क्लिक

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस