नई दिल्‍ली, किशन कुमार। आसीम अहमद खान ने मटियामहल विधानसभा सीट से पांच बार विधायक रहे शोएब इकबाल को मात देकर जीत दर्ज की थी। ऐसे में आसीम के कंधों पर काफी जिम्‍मेदारी थी। आसीम का कहना है कि उन्‍होंने इस जिम्‍मेदारी को पूरी शिद्दत के साथ निभाया है। हालांकि, शोएब इकबाल का आरोप है कि पिछले पांच सालों में आसीम ने जनता के लिए कोई काम नहीं किया, सिर्फ काम करने का भ्रम फैलाया जा रहा है। आइए आपको बताते हैं आसीम अहमद खान के दावे और उनका पोस्टमार्टम।

प्रोफाइल

विधायक आसीम अहमद खान का जन्म दिल्ली में ही हुआ है। उन्होंने चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से स्नातक किया है। विधायक रहने से पहले आसीम अहदम खान ने वर्ष 2012 में निगम पार्षद का चुनाव लड़ा था, जिसमें उन्हें 6300 वोट प्राप्त हुए थे। इसके बाद वर्ष 2015 आम आदमी पार्टी ने उन्हें मटियामहल विधानसभा क्षेत्र से उतारा, जिसमें उन्होंने इस इलाके के पांच बार विधायक रह चुके शोएब इकबाल को हराया था। खान दिल्ली सरकार में कैबिनेट मंत्री का पद संभाल चुके हैं। इसमें उन्हें खाद्य एवं आपूर्ति विभाग विभाग की जिम्मेदारी मिली थी। वर्तमान में खान दिल्ली स्टेट हज कमेटी की अध्यक्ष हैं।

नाम : आसीम अहमद खान

शिक्षा : स्नातक

उम्र : 43

विधानसभा क्षेत्र : मटियामहल

विधानसभा क्षेत्र में पोलिंग स्टेशन : 131

कुल मतदाता : 124076

पुरुष मतदाता : 65210

महिला मतदाता : 58842

अन्य : 24

उपलब्धियां

-पिछली सरकार में यहां पर पीने के पानी के लिए बोरवेल का पानी पीते थे, ऐसे में यहां के हर घर घर तक लोगों को साफ पीने का पानी पहुंचाया।

-यहां पर वर्षों से सीवर लाइन की हालत जर्जर थी। पुरानी सीवर लाइन को बदलकर प्लास्टिक की सीवर लाइन बिछवाई।

-चार मॉडल स्कूल बनवाए।

-मेहंदिया व दिल्ली गेट कब्रिस्तान में लोगों के लिए पानी की सुविधा से लेकर बैठने की सुविधा की, सड़क का निर्माण किया।

-24 घंटे बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की।

-कई जगहों पर ओपन जिम लगवाए।

-तुर्कमान गेट में डीडीए फ्लैट्स में 2.5 करोड़ की लागत से फ्लैटों की मरम्मत की जा रही है।

-क्षेत्र में 100 बेंचों की सुविधा उपलब्ध कराई।

-1600 सीसीटीवी लगवाए और भी लगने बाकी हैं।

-200 स्ट्रीट लाइट लगवाई।

-क्षेत्र के 257 कटरों में फर्श से लेकर वहां के मकानों में भी मरम्मत करवाई।

-मिंटो रोड स्थित पांच कलस्टर में वर्षों से पानी, सड़क व लाइट की सुविधा नहीं थी, ऐेस में वहां यह सुविधाएं उपलब्ध करवाई।

-विधायक कार्यालय में करीब 35 हजार लोगों का आधार कार्ड बनवाया।

-धर्म के नाम पर लोगों को जोड़ने का काम किया।

दावों का पोस्टमार्टम

इस विधानसभा से पूर्व विधायक शोएब इकबाल का कहना है कि पिछले पांच सालों में यहां पर कोई भी नया स्कूल नहीं बना है। सिर्फ पुराने स्कूलों की ही मरम्मत की गई है। नए स्कूल बनाने का दावा गलत है। यदि स्कूल बनते तो वह लोगों के सामने होते। आज भी स्कूलों में कई सुधार की आवश्यकता है।

-क्षेत्र में सीवर लाइन बदले जाने का दावा गलत है। चूड़ीवालान इलाके में ही आए दिन सीवर बहता रहता है। बहते सीवर के कारण लोगों को परेशानी होती है। बारिश के दिनों में तो और भी बुरा हाल हो जाता है।

-डीडीए फ्लैट्स में मरम्मत का दावा भी गलत है। वहां पर सिर्फ मरम्मत करने का दावा किया है, लेकिन धरातल पर कुछ भी नहीं है। लोगों के साथ विश्वासघात किया जा रहा है। जमीनी स्तर पर काम दूर दूर तक नहीं है।

-यदि इलाके में 100 बेंच लगाए होते वे दिखते भी,लेकिन ऐसा नहीं है। मटियामहल इलाके में बहुत संकरी गलियां हैं। वाहनों का निकलना ही मुश्किल हो जाता है। यदि यहां पर बेंच लगवा दिए जाएंगे तो लोगों के लिए चलने के लिए भी जगह नहीं बचेगी। बेंच वाला दावा भी झूठ है।

-लोगों को आज भी गंदा पानी सप्लाई हो रहा है। कोई नई पाइपलाइन नहीं डाली गई है। लोगों की शिकायत रहती है कि घरों में गंदा पानी कई दिनों तक आता है, लेकिन समस्या का कोई समाधान नहीं है। पानी के बारे में भी विधायक गलत दावा कर कर रहे हैं।

जनता की राय

एक मतदाता दीपक का कहना है कि यहां पर वर्षों से तारों का जंजाल फैला हुआ है, लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं हुआ है। इस संबंध में कई बार शिकायत भी की, लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं हुआ है। यही कारण है कि हम लोग वर्षों से समस्याओं से जूझ रहे हैं। पिछले पांच सालों में इन तारों का जंजाल खत्म होना चाहिए था। यदि इन तारों का जंजाल खत्म हो जाता तो लोगों को राहत मिलती, क्योंकि तारों के जंजाल में कई बार शॉट सर्किट की घटना हो चुकी हैं। इससे कई बार बड़ी घटनाएं भी हो चुकी हैं।

वहीं प्रेम कहते हैं कि सीताराम बाजार में ही अतिक्रमण फैला रहता है। इस वजह से दुकानदारों के साथ साथ पैदल चलने वाले लोगों को भी परेशानी होती है। अतिक्रमण को लेकर कई बार शिकायत की गई, लेकिन आज तक कोई समाधान नहीं हुआ है। मुख्य मार्ग पर ही कई रेहड़ी पटरी वालों ने अतिक्रमण कर रखा है। वहीं, कुछ लोगों ने स्थायी रूप से अपने ठिये जमा लिए हैं। यही कारण है कि यहां पर यह समस्या नासूर बच चुकी है। यदि यहां पर मूलभूत सुविधाएं ही नहीं मिलेंगी तो जनता का वोट देने का क्या फायदा। यहां पर विकास की गंगा बहनी चाहिए थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है।

इसी क्षेत्र के अजय रावत कहते हैं कि यहां पर विभिन्न जगहों पर गंदगी भी देखने को मिल जाएगी। जो क्षेत्र की हालत को बयां करने के लिए काफी है। सफाईकर्मियों द्वारा नियमित रूप से नहीं आने के कारण यहां की स्थिति यह है। गंदगी के कारण लोगों में भी संक्रामक बीमारियां फैलने का डर बना रहता है। इस वजह से स्थानीय विभागों से लेकर संबंधित निकायों भी शिकायत की गई, लेकिन अभी तक समस्या का कोई समाधान नहीं हो सका है। सबसे पहले यहां की गंदगी का समाधान करना चाहिए, जिससे लोग साफ सुथरे वातावरण में रह सके। एक तरफ स्वच्छता अभियान चल रहा है और दूसरी ओर इलाके की यह हालत रहती है।

जमाल अहमद कहते हैं कि चितली कब्र की में ही देख लें तो यहां पर तारों के जंजाल से लेकर सड़कों की जर्जर स्थिति की समस्या है। वर्षों से यहां पर सड़क का निर्माण नहीं हुआ है। यही कारण है कि यहां पर आए दिन रिक्शा पलटने की घटनाएं हो चुकी हैं। इसे लेकर कई बार शिकायत भी की गई, लेकिन समस्या का समाधान दूर तक नहीं दिखता है। इस वजह से लोग परेशानी का सामना करने को मजबूर हैं। यदि सड़कों का ही निर्माण हो जाए तो यहां पर लोगों को काफी सहूलियत होगी। इस संबंध में नेताओं को विचार करने की जरूरत है।

जनता ने कहा ऐसे हो हमारें विधायक

-जनता के बीच पहुंचकर काम करने वाले विधायक चाहिए।

-चुनावी वादों को धरातल पर काम दिखना चाहिए।

-विधायक तक लोगों की पहुंच आसान होनी चाहिए।

-समस्या पर जल्द से जल्द ध्यान देकर समाधान कराने वाले विधायक चाहिए।

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस