नई दिल्‍ली, एएनआइ। मतदान के आंकड़े जारी करने में देरी पर आम आदमी पार्टी (आप) की ओर से चुनाव आयोग पर सवाल खड़े किए जाने के बाद मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) ने रविवार देर शाम को मतदान के आंकड़े जारी किए। दिल्ली के सभी 70 सीटों के लिए शनिवार को 62.59 फीसद मतदान हुआ है। उत्तर-पूर्व जिले में सर्वाधिक 68.58 फीसद मतदान हुआ, जबकि नई दिल्ली जिले में सबसे कम 56.24 फीसद मतदान रहा। जहां तक विधानसभा क्षेत्रों की बात है तो मुस्लिम बहुल इलाकों में बड़े पैमाने पर मतदान हुआ। बल्लीमारन में सर्वाधिक 71.58 फीसद व दिल्ली कैंट में सबसे कम 45.36 फीसद मतदान हुआ है।

राजनीतिक दलों को आंकड़ों का इंतजार था

राजनीतिक दल रविवार को मतदान के आंकड़ों का बेसब्री से इंतजार करते रहे लेकिन आंकड़े मतदान के 24 घंटे बाद जारी हुए। इस मामले पर सीईओ डॉ. रणबीर सिंह ने कहा कि शनिवार को छह बजे के बाद भी कई मतदान केंद्रों पर देर शाम तक मतदान होता रहा। इसके बाद ईवीएम को स्ट्रांग रूम में सुरक्षित ले जाकर जमा किया गया और उसे सील किया। इस कार्य में सभी अधिकारी पूरी रात व्यस्त रहे। इसके बाद सुबह 11 बजे से स्क्रूटनी का कार्य शुरू हुआ।

मतदान का डेटा बूथ से आता है

उन्होंने कहा कि मतदान का डेटा बूथ से आता है। सुबह से ही अलग-अलग विधानसभा के अनुसार मतदान का डेटा सिस्टम में ऑनलाइन डालने का काम चल रहा था। 13,751 बूथों का डेटा एकत्रित कर अपडेट करने में समय लगता है। उन्होंने कहा कि इस बार कुल 62.59 फीसद मतदान रहा है। 62.62 फीसद पुरुष व 62.55 फीसद महिलाओं ने मतदान किया। पिछले लोकसभा चुनाव में 60.5 फीसद मतदान हुआ था। इस तरह पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में दो फीसद अधिक मतदान हुआ है, जबकि पिछले विधानसभा चुनाव की तुलना में मतदान 4.33 फीसद कम रहा। वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में 67.12 फीसद मतदान हुआ था। इस बार मतदान कम होने के कई कारण हो सकते हैं।

शकुरबस्ती विधानसभा क्षेत्र में 66.67 फीसद हुआ मतदान

शकुरबस्ती विधानसभा क्षेत्र के मतदान फीसद को लेकर सवाल खड़े किए जा रहे थे, क्योंकि आयोग के वोटर टर्नआउट एप पर शकुरबस्ती विधानसभा क्षेत्र में मतदान फीसद 49.19 फीसद बताया गया था। इस पर आम आदमी पार्टी (आप) ने सवाल खड़े किए। इसके बाद सीईओ कार्यालय ने इस पर सफाई देते हुए कहा कि शकुरबस्ती विधानसभा क्षेत्र में इस बार 66.67 फीसद मतदान हुआ है।

11 विधानसभा में क्‍यूआर कोड स्‍कैन

उप चुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना ने कहा कि जिन 11 विधानसभा क्षेत्रों में क्यूआर कोड स्कैन हो रहा था, वहां मतदान फीसद का आंकड़ा वास्तविक होता है। मतदान के दौरान अन्य क्षेत्रों का एप पर आंकड़ा अनुमानित होता है। मतदान खत्म होने के बाद सभी बूथों का आंकड़ा एकत्रित करने के बाद वास्तविक स्थिति का पता चल पाता है। डॉ. रणबीर सिंह ने कहा कि मतदान के बाद सभी उम्मीदवारों के एजेंटों को मतदान की जानकारी (फार्म 17 सी) उपलब्ध करा दी जाती है। इसलिए आंकड़ों में फेरबदल की संभावना नहीं होती।

11 फरवरी को सुबह आठ बजे से होगी मतगणना

सीईओ कार्यालय के अनुसार इस बार चुनाव में कहीं से कोई गड़बड़ी की शिकायत नहीं मिली है। 69 विधानसभा क्षेत्रों के स्क्रूटनी का काम शाम सात बजे तक पूरा हो गया था। वहां कोई गड़बड़ी की शिकायत नहीं मिली। करोल बाग विधानसभा क्षेत्र की रिपोर्ट तैयार नहीं हो पाई थी। 11 फरवरी को सुबह आठ बजे मतगणना का काम शुरू हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: वोटिंग के 24 घंटे बाद चुनाव आयोग ने जारी किए आंकड़े, बल्लीमरान में पड़े सबसे ज्यादा वोट

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस