पटना [राज्य ब्यूरो]। दिल्‍ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) में जनता दल यूनाइटेड (JDU) चुनिंदा सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगा। पार्टी सुप्रीमो व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) जल्द ही दिल्ली विधानसभा चुनावमें पार्टी की दमदार उपस्थिति दर्ज कराने की कोशिश में जुटेंगे। इसकी शुरुआत 23 अक्टूबर को दिल्ली के बदरपुर (Badarpur) में आयोजित जनसभा (Rally) से होगी। बदरपुर की कुल आबादी का लगभग 70 फीसद हिस्सा बिहारियों का है।

दिल्‍ली में पैठ बनाने की कोशिश में जेडीयू

विदित हो कि 70 सदस्‍यीय दिल्‍ली विधानसभा का चुनाव होने जा रहा है। हालांकि, इसकी तिथि की घोषणा अभी नहीं हुई है। इसके पहले 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (AAP) की अप्रत्‍याशित जीत के बाद अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) मुख्‍यमंत्री बने। यहां जेडीयू भी अपनी पैठ बनाने की कोशिश में है।

बिहार-यूपी बहुल इलाकों में दिखाएगी सक्रियता

हाल ही में दिल्ली प्रदेश जेडीयू अध्यक्ष व कुछ अन्य पदाधिकारी पटना आकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिल चुके हैं। उसी समय से यह चर्चा है कि इस बार जेडीयू दिल्ली विधानसभा चुनाव में चुनी हुई सीटों पर अपने प्रत्याशी देगा। चुनाव के एलान के पहले से ही पार्टी वैसे इलाकों में अपनी सक्रियता दिखाएगी, जहां बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश (Eastern UP) के लोगों की संख्या अधिक है।

कई इलाकों में बिहारियाें की निर्णायक हैसियत

दिल्‍ली में बिहार के लोगों की संख्‍या अच्‍छी-खासी है। दिल्‍ली में बिहारियाें की निर्णायक हैसियत को देखते हुए अन्‍य दलों में भी बिहारी मूल के नेता बड़ी हैसियत में हैं। बिहार के वोटर कई क्षेत्रों में चुनाव परिणाम को प्रभावित करते हैं। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) और कांग्रेस (Congress) के प्रदेश अध्यक्ष कीर्ति आजाद (Kirty Azad) बिहार के ही हैं।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप