रायपुर। लगातार 15 वर्षों तक छत्तीसगढ़ पर राज करने वाली भारतीय जनता पार्टी की सरकार के कई मंत्रियों की संपत्ति बीते 10 वर्षों में पांच से 10 गुना तक बढ़ चुकी है। सीएम डॉ. रमन सिंह के साथ अमर अग्रवाल, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत और केदार कश्यप लगातार पंद्रह वर्षों तक मंत्री पद पर रहे हैं। इनमें से अमर अग्रवाल के पास सर्वाधिक 23 करोड़ की संपत्ति है लेकिन वे व्यवसाय भी करते हैं। हालांकि ज्यादातर ने आय बढ़ने की वजह जमीन के मूल्य में वृद्धि को ही बताया है।

नेशनल इलेक्शन वॉच की एक रिपोर्ट के अनुसार 2008 के चुनाव में निवर्तमान मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपनी संपत्ति एक करोड़ रुपए बताई थी। उनपर कोई देनदारी नहीं थी। अब, सन 2018 में उनकी संपत्ति बढ़कर 10 करोड़ हो गई है। तीन हजार रुपए की देनदारी भी है।

दोगुनी हुई रमन की अचल संपत्ति की कीमत

डॉ. रमन सिंह की अचल संपत्ति की कीमत पांच वर्ष में बढ़कर लगभग दोगुनी हो गई है। उनके पास इस समय छह करोड़ 41 लाख की अचल व चार करोड़ 31 लाख से अधिक की चल संपत्ति है। रमन के पास करीब 76 तोला सोना व चार किलो चांदी भी है।

पांच वर्ष में रमन ने केवल 2670 वर्ग फीट जमीन खरीदी है। शपथ पत्र में रमन ने करीब 10 करोड़ की चल-अचल संपत्ति की जानकारी दी है। इसमें छह कराड़ 41 लाख रुपये की अचल संपत्ति के साथ चार करोड़ 31 लाख 35 हजार की चल संपत्ति भी शामिल है।

उन्होंने 24 अक्टूबर 2013 से लेकर 23 अक्टूबर 2018 के बीच संपत्ति का ब्योरा दिया है। साल 2013 में रमन के पास तीन करोड़ 33 लाख 55 हजार रुपए की अचल संपत्ति थी, जो 2018 में बढ़कर छह करोड़ 41 लाख रुपए हो गई है। वहीं चल संपत्ति दो करोड़ 28 लाख 15 हजार रुपए थी, जो बढ़कर चार करोड़ 31 लाख 35 हजार रुपए की हो गई है।

पांच साल में डेढ़ गुना बढ़ी मंत्री अमर की संपत्ति

नगरीय प्रशासन मंत्री रहे अमर अग्रवाल की संपत्ति पिछले पांच साल में डेढ़ गुना बढ़ गई है। मंत्री अमर से ज्यादा संपत्ति उनकी पत्नी शशि अग्रवाल के पास है। नकद जमा राशि के मामले में दोनों के पास बराबर यानी साढ़े 51 लाख रुपए हैं। पत्नी के पास कुल संपत्ति 18 करोड़ 36 लाख आठ हजार 930 रुपये है।

यही नहीं, वे 18.885 एकड़ भूमि की स्वामी भी हैं। कृषि भूमि के अलावा उनके नाम पर गैर कृषि भूमि, वाणिज्यिक भवन व आवासीय भवन भी हैं। एक दर्जन कंपिनयों के शेयर होल्डर भी हैं। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया खरसिया ब्रांच व सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया बिलासपुर ब्रांच में उनका खाता है।

गागड़ा एक करोड़ के मालिक

वन मंत्री रहे महेश गागड़ा के पास करीब एक करोड़ की चल संपत्ति है। पत्नी के पास भी 86 लाख रुपये की संपत्ति है।

दो बार मंत्री रहे अजय भी करोड़पति

अजय चंद्राकर 2003 में भाजपा सरकार में मंत्री थे। सन 2008 का चुनाव हार गए लेकिन इस दौरान उनके पास दो करोड़ 92 लाख की संपत्ति थी। सन 2013 में अजय दोबारा मंत्री बने। रिपोर्ट के अनुसार इस वक्त उनके पास करीब 13 करोड़ 74 लाख के बराबर की संपत्ति है।

पैकरा की जितनी संपत्ति उतनी ही देनदारी

भाजपा सरकार में गृहमंत्री रहे रामसेवक पैकरा के पास करीब आठ करोड़ रुपये की संपत्ति है, लेकिन उनकी देनदारी भी आठ करोड़ से कुछ अधिक की ही है।

Posted By: Sandeep Chourey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस