मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित मंत्री टीएस सिंहदेव व ताम्रध्वज साहू के शपथ ग्रहण समारोह में भाजपा की ओर से डॉ रमन सिंह, बृजमोहन अग्रवाल व गौरीशंकर अग्रवाल तो शामिल हुए पर जोगी कुनबे ने पूरी तरह दूरी बनाए रखा।

समारोह में जकांछ की ओर से विधायक प्रमोद शर्मा तो शामिल हुए पर अजीत जोगी, रेणु जोगी, अमित जोगी व ऋचा जोगी कोई भी नहीं पहुंचा। जबकि पिछली रमन सरकार के शपथ ग्रहण समरोह में अजीत जोगी व रेणु जोगी दोनों शामिल हुए थे।

कांग्रेस से अलग होकर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ का गठन करने वाले राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी की कांग्रेस व भूपेश बघेल से तल्खी जगजाहिर है। जब भूपेश बघेल को कांग्रेस विधायक दल का नेता चुना गया तभी यह लगने लगा था कि भूपेश बघेल के शपथ ग्रहण समारोह में अजीत जोगी शामिल नहीं होंगे।

हुआ भी ऐसा ही, न तो अजीत जोगी कार्यक्रम में पहुंचे न ही विधानसभा की सदस्य व उनकी पत्नी डॉ रेणु जोगी ही। जोगी दंपती के शपथ ग्रहण समारोह से दूरी बनाने को लेकर चर्चा होती रही। कयास लगाये जा रहे थे कि भूपेश बघेल के संबंध ठीक नहीं होने के कारण अजीत जोगी शपथ ग्रहण में नहीं शामिल हुए।

रमन के पहले शपथ ग्रहण में भी नहीं गए थे जोगी

पूर्व प्रधानमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह में शामिल न होना कोई नई बात नहीं है। जब पहली बार रमन सिंह सरकार सत्ता में आई थी तब भी अजीत जोगी उनके शपथ ग्रहण समारोह में सम्मिलित नहीं हुए थे।

कार्यकर्ता मिलन का कार्यक्रम था पूर्व निर्धारित  : डॉ रेणु

जकांछ विधायक व अजीत जोगी की पत्नी डॉ. रेणु जोगी ने इस बाबत बताया कि विधानसभा क्षेत्र कोटा व मरवाही के संयुक्त स्थल पेंड्रा के गौरेला में कार्यकर्ता मिलन समारोह व भोज का कार्यक्रम पूर्व में ही निर्धारित था। इस कारण अजीत जोगी व मैं दोनों रायपुर से बाहर थे।

रेणु जोगी ने कहा कि पिछली बार रमन सिंह सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में हम दोनों शामिल हुए थे। जब भाजपा के कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं तो कांग्रेस में क्यों नहीं। कहा राजनीति में दिल बड़ा रखना ही पड़ता है। बताया कि पार्टी के विधायक प्रमोद शर्मा पार्टी की ओर से शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए थे।  

Posted By: Hemant Upadhyay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप