रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ नेता व पूर्व विधायक अमित जोगी आगामी लोकसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमा सकते हैं। पार्टी के बड़े रणनीतिकार उनके लिए सुरक्षित सीट की तलाश में जुट गए हैं। विधानसभा चुनाव में पार्टी का मैनेजमेंट संभालने वाले अमित जोगी के कोरबा सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने की प्रबल संभावना है।

कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बनाने वाले अजीत जोगी ने बसपा से गठबंधन कर विधानसभा में 55 सीटों पर किस्मत आजमाया था। कांग्रेस के पक्ष में चली परिवर्तन की बयार से उन्हें सीटें तो अधिक नहीं मिली पर मतदाताओं ने उन्हें गंभीरता से लिया।

पांच सीटों पर जकांछ के उम्मीदवारों को जीत मिली। पार्टी मुखिया अजीत जोगी के परिवार से स्वयं जोगी व उनकी पत्नी रेणु जोगी मरवाही व कोटा से निर्वाचित हुए। उनकी बहू ऋचा जोगी ने बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर अकलतरा से किस्मत आजमाया पर उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

पिछली विधानसभा में मरवाही से विधायक रहे छोटे जोगी यानी अमित जोगी ने इस बार चुनाव में हिस्सा नहीं लिया और पार्टी का मैनेजमेंट संभालने की जिम्मेदारी ली। विधानसभा चुनाव के तत्काल बाद लोकसभा का चुनाव होना है ऐसे में छोटे जोगी के लोकसभा चुनाव में किस्मत आजमाने की प्रबल संभावना है। पार्टी के रणनीतिकार उनके लिए सीट तलाशने में जुटे हैं।

बिलासपुर संभाग में अजीत जोगी के प्रभाव को देखते हुए लगता है कि अमित जोगी इसी संभाग की किसी सीट से चुनाव लड़ सकते हैं। प्रबलतम संभावना है कि अमित जोगी कोरबा लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। कारण कि कोरबा लोकसभा सीट में ही मरवाही व मनेंद्रगढ़ विधानसभा आते हैं जहां जोगी का वर्चस्व माना जाता है।

कोरबा लोकसभा सीट में भरतपुर सोनहट, मनेंद्रगढ़, बैकुंठपुर, रामपुर, कोरबा, पाली तानाखार, मरवाही व कटघोरा विधानसभा सीटें आती है। इन सीटों पर अजीत जोगी का प्रभाव माना जाता है। जकांछ का बसपा से गठबंधन है। यदि लोकसभा चुनाव में यदि गठबंधन कायम रहा तो अमित जोगी के लिए यह सीट सर्वाधिक सुरक्षित साबित होगी।  

Posted By: Hemant Upadhyay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप