रायपुर, नईदुनिया, राज्य ब्यूरो। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष अजीत जोगी ने शनिवार को अपने उस बयान से यू-टर्न ले लिया जिसमें उन्होंने जरूरत पड़ने पर चुनाव बाद भाजपा से समर्थन लेने या देने की बात कही थी।

पार्टी मुख्यालय पर आठ धर्मग्रंथों की शपथ खाकर जोगी ने कहा कि सूली पर चढ़ना पसंद करुंगा पर भाजपा को समर्थन देना नहीं। अजीत जोगी का यह बयान गठबंधन की सहयोगी बसपा प्रमुख मायावती की तल्खी के बाद आया। मायावती ने कहा कि विपक्ष में बैठना मंजूर पर भाजपा का साथ देना मंजूर नहीं।

जकांछ प्रमुख ने शनिवार को आनन-फानन में प्रेस कांफ्रेंस बुलाई। गीता, कुरान, बाईबिल, गुरु ग्रंथ साहिब सहित आठ धर्मग्रंथों को सामने रख शपथ खाकर यह बात कहने लगे। अजीत जोगी का कुछ दिन पूर्व गठबंधन की सरकार बनने की दशा में भाजपा के साथ जाने संबंधित बयान आया था जिस पर बसपा प्रमुख मायावती ने गंभीरता से लिया था। माया ने इसके विपरीत बयान दिया था। माना जा रहा है कि मायावती का रुख देखते हुए जोगी ने यू-टर्न लिया है।

Posted By: Prashant Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप