रायपुर, जेएनएन। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज कराने के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती और छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (छजकां) के अध्यक्ष अजीत जोगी ने संयुक्त जनसभा की। इस दौरान मायावती ने राममंदिर के मुद्दे पर भाजपा का घेराव किया, तो वहीं कांग्रेस को भी निशाने पर लेना नहीं भूलीं। 

राम मंदिर को लेकर भाजपा-संघ पर साधा निशाना
रैली में राम मंदिर का जिक्र करते हुए मायावती ने कहा, 'चुनाव के नजदीक राम मंदिर को बनवाने का अभियान कुछ ज्यादा जोर पकड़ रहा है। इस मामले में अब ये लोग (भाजपा) यूपी में ही नहीं बल्कि पूरे देश में एक नहीं, अनेक राम मंदिर का निर्णाण क्यों न कर लें, तो भी इससे भाजपा और संघ के लोगों को राजनीतिक लाभ नहीं होने वाला है।'

गठबंधन कोशिशि रहेगी कि....
मायावती ने कहा, 'इस विधानसभा चुनाव में गठबंधन की पूरी कोशिश होनी चाहिए कि हमारे यहां ज्यादा से ज्यादा उम्मीदवार जीत कर आएं और सरकार बन सकें। 

अजीत जोगी को देंगे सम्मान, जो कांग्रेस में नहीं मिला
वहीं, कांग्रेस का घेराव करते हुए मायावती ने आगे कहा, 'मैं अजीत जोगी जी को विश्वास दिलाना चाहती हूं कि जो सम्मान आपको कांग्रेस पार्टी के साथ नहीं मिला, वो आपको बीएसपी के साथ मिलकर मिलेगा।'

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में बसपा और छजकां साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे। ऐसे में बिलासपुर रैली दोनों दलों के लिए काफी महत्वपूर्ण थी। मायावती और अजीत जोगी यह बताने का प्रयास करते दिखे कि वे राज्य में तीसरी ताकत हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस