पूर्वी चंपारण/ पश्चिम चंपारण, जेएनएन। Bihar Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए प्रचार कर रहे प्रतिपक्ष के नेता व पूर्व उपमुख्यमंत्र तेजस्वी यादव ने कहा कि महागठबंधन की सरकार बनने के बाद कैबिनेट की पहली बैठक में पहली कलम से दस लाख युवाओं को सरकारी नौकरी दी जाएगी। सबसे पहले तो विभिन्न विभागों में रिक्त पड़े साढ़े चार लाख पदों पर भर्ती की जाएगी। सरकारी नौकरी मिलेगी तभी आपका जीवन सुरक्षित होगा। हम आपकी जिंदगी को सुरक्षित एवं खुशहाल बनाने की दिशा में काम करेंगे। वे हरसिद्धि विधानसभा क्षेत्र के गायघाट के मैदान में चुनाव सभा काे संबोधित कर रहे थे।  

वहीं, पश्चिम चंपारण के मझौलिया में चुनावी सभा में तेजस्वी यादव ने कहा कि  बिहार में बदलाव की आंधी चल रही है। मुझे विश्वास है कि चंपारण की ऐतिहासिक धरती उसमें सबसे आगे रहेगी। यहां भी उन्होंने सरकार बनते ही दस लाख बेरोजगारों को नौकरी देने की बात को दोहराई। 

नियोजित शिक्षकों को समान काम और समान वेतन

पूर्वी चंपारण के गायघाट में तेजस्वी ने कहा कि नौकरी के लिए युवाओं को कोई शुल्क नहीं देना होगा। प्रतियोगिता परीक्षा देने जाने के लिए परीक्षार्थियों को ट्रेनों की सुविधा भी निश्शुल्क उपलब्ध कराई जाएगी। वहीं उन्होंने कहा कि नियोजित शिक्षकों को सम्मान मिलेगा। उन्हेंं समान काम का समान वेतन मिलेगा। मानदेय पर काम करने वाली सेविका और जीविका दीदी सबका मानदेय दोगुना किया जाएगा। उन्होंने कहा कि विभिन्न सामाजिक पेंशन की राशि को चार सौ रुपये की जगह एक हजार रुपये की जाएगी। किसानों को कृषि ऋण के बोझ से मुक्ति मिलेगी। केसीसी लोन माफ किया जाएगा। किसानों को खुशहाल बनाया जाएगा।

नीतीश सरकार में बेरोजगारी बढ़ी

उन्होंने कहा कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने बिहार में युवाओ, किसानों व गरीबो को सिर्फ ठगने का कार्य किया है। नीतीश सरकार में बेरोजगारी बढ़ी है। किसानों को कर्ज के बोझ से दबा दिया गया है। नीतीश कुमार अब ऊर्जाविहीन हो चुके हैं। विकास के नाम पर बात न कर अनाप शनाप बयान दे रहे हैं।

बिहार के चूहे भी ट्रेंड हो चुके

उन्होंने कहा नीतीश कुमार बोल रहे हैं कि अपने पिता से पूछो कि कितना काम हुआ था। उन्होंने बताया कि मेरे पिता के कार्यकाल में बिहार में तीन रेल कारखाने, सात विश्वविद्यालय खुला। गरीब रथ चलवाया, बिना भाड़ा बढ़ाये रेल का विकास किया। आप ने 15 साल में सृजन घोटाला, बांध लूट के अलावा क्या-क्या किया। बिहार में न तो स्वास्थ्य व्यवस्था ठीक है और न शिक्षा व्यवस्था। नीतीश कुमार के कार्यकाल में बिहार के चूहे भी ट्रेंड हो चुके हैं। थाने से जब्त शराब पी रहे हैं। सभा की अध्यक्षता हरसिद्धि प्रखंड अध्यक्ष मोहन सहनी व संचालन प्रधान महासचिव एनामुल हक ने किया। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस