पटना, जेएनएन। Ram Vilas Paswan Funeral News:  पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के संस्थापक रामविलास पासवान  (Ram Vilas Paswan) का राजकीय सम्मान के साथ शनिवार की शाम पटना के दीघा स्थित जर्नादन घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। शनिवार सुबह आठ बजे से ही उनके पटना के श्रीकृष्णपुरी स्थित निजी आवास पर अपने लोकप्रिय नेता के अंतिम दर्शन को लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। यहां से दोपहर में उनकी अंतिम यात्रा दीघा के जनार्दन घाट के लिए शुरू हुई। दोपहर पार्थिव शरीर जनार्दन घाट लाया गया। शाम करीब 04.45 बजे राम विलास के पुत्र व लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने अपने पिता को मुखाग्नि दी। मुखाग्नि देने के दौरान चिराग बेसुध होकर गिर गए, बाद में लोगों ने उन्हें संभाला।

मांझी ने की भारत रत्न देने की मांग

पूर्व मुख्‍यमंत्री और हम के प्रमुख जीतन राम मांझी ने रामविलास पाासवान के लिए भारत रत्‍न की मांग की है। हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम माँझी ने राष्ट्रपति को लिखे पत्र में कहा है कि पासवान को भारत रत्न मिले और उनके दिल्ली आवास को स्मारक बनाया जाए।

तस्‍वीरों में देखिए अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब ।

Ram Vilas Paswan Funeral News Live :

1: 11 बजे -  फूलों से सजी गाड़ी पर भारी भीड़ के साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री व लोजपा के संस्‍थापक राम विलास पासवान की अंतिम यात्रा पटना स्‍ि‍थत आवास से निकली।

1: 25 बजे- अंतिम यात्रा में जगह-जगह से लोग जुड़ते जा रहे । रामविलास पासवान अमर रहें के नारे से गूंजा वातावरण।

1: 28 बजे-  राम विलास पासवान के पुत्र चिराग पासवान गुमसुम हैं। जाहिर है  पिता की मौत से वे बेहद दुखी हैं। ऐन विधान सभा चुनाव के पहले पिता की मौत से वे विचलित हैं।

 1:32 बजे-  केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के रूप में केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद अंतिम यात्रा में शामिल हैं। उन्‍होंने कहा कि हम सब राम विलास पासवान जी के निधन पर बेहद दुखी हैं। बोलने के लिए शब्‍द नहीं है। परिवार के लोगों से भी मैं मिला। सांत्‍वना दी। मगर उनके लिए यह अपूरणीय क्षति है।

1: 50 बजे- अंतिम यात्रा में शामिल पूर्व मुख्‍यमंत्री व हम प्रमुख जीतन राम मांझी ने कहा राम विलास जी से मेरे व्‍यक्तिगत संबंध थे। उनका हमेशा आदर रहा। उनका निधन मेरी व्‍यक्तिगत क्षति है।

1:58 बजे- केंद्रीय मंत्री की अंतिम यात्रा में लोगों का हुजूम देखकर उनकी लाेकप्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है। लोग भावुक हैं। वे नारे लगा रहे हैं। अपने प्रिय नेता की एक झलक पाने को उमड़ पड़े हैं।

2:03 बजे- लोग भाव विह्वल हैं। उनके नारों से पूरा वातावरण गुंजायमान है। लाेगों की भारी भीड़ देखकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

2: 13 बजे- पटना के बेली रोड पर अंतिम यात्रा में जहां तक नजर जाती है, लोगों की भीड़ और गाडि़यों का काफिला नजर आ रहा है।

 2:17बजे- उधर,दीघा  के जनार्दन घाट पर  हर रास्‍ते पर हर ओर  लोग अपने  प्रिय  नेता  के अंतिम दर्शन  के  लिए  इंतजार  करते दिख  रहे।

  2: 20 बजे- दीघा के जनार्दन घाट पर बने पंडाल में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी, नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव सहित कई दलों के बड़े नेता अंतिम संस्‍कार में शामिल हाेने पहुंचे।

2: 25 बजे-  अंतिम यात्रा में शामिल होने केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे, नित्यानंद राय सहित कई मंत्री पहुंचे हैं। हर एक की जबान पर रामविलास पासवान जी के मिलनसार स्‍वाभाव और उनकी यादें हैं।

2: 29 बजे- राम विलास पासवान जी का पार्थिव शरीर दीघा स्थित जनार्दन घाट पहुंचा। मौजूद लोगों ने गगनभेदी नारे लगाने शुरू कर दिए। हर कोई बस उनकी एक झलक पाने को बेताब दिखा।

 2:49 बजे- जनार्दन घाट पर चिराग के साथ उनके भाई प्रिंस राज व अन्‍य मौजूद हैं। अंतिम संस्‍कार की तैयारियां शुरू हो गई है। चिराग गंगा में स्‍नान करने पहुंचे। उन्‍हें मुखाग्नि देना है।

2:52 बजे- राम विलास पासवान के अंतिम दर्शन को वैशाली जिले से भी बड़ी संख्‍या में लोग पहुंचे हैं। वैशाली का हाजीपुर राम विलास पासवान की कर्मभूमि रहा। वहां के लोगों का उनसे गहरा जुड़़ाव है। यह दिख भी रहा है।

2:58 बजे - दीघा स्थित जनार्दन घाट पर जल, थल , नभ तीनों सेनाओं के जवान मौजूद हैं। 

3:22 बजे - समय के साथ ही राजधानी के दीघा स्थित जनार्दन घाट पर लोगों का जुटान हो रहा है। सभी अपने नेता की अंतिम यात्रा देखने को आतुर हैं। 

3:40 बजे - अंतिम क्रिया की रस्में शुरू कर दी गई हैं। 

3:44 बजे - चिराग पासवान कुछ ही देर में रामविलास को देंगे मुखाग्नि।

4:05 बजे - राम विलास पासवान को दीघा स्थित जनार्दन घाट पर दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर।

4:16 बजे - अंतिम रस्में शुरू, राम विलास पासवान के पार्थिव शरीर पर रखी जा रही लकड़ी।

4:45 बजे -  चिराग पासवान ने अपने पिता राम विलास पासवान को नम आंखों से दी मुखाग्नि।

पहली पत्‍नी राजकुमारी देवी भी पहुंची

खगडि़या जिले के शहरबन्‍नी स्थित उनके पैतृक गांव से पहली पत्नी राजकुमारी देवी भी पटना आवास पहुंची थीं। उनके आंसू थम नहीं रहे। गुरुवार की रात से शुक्रवार शाम तक रामविलास पासवान के पैतृक आवास पर लोग जुटते रहे।

हर दल के नेता पहुंचे श्रद्धांजलि देने

शनिवार की सुबह से पटना स्थित आवास पर विभिन्‍न राजनीतिक दलों के बड़े नेता, कार्यकर्ता और बड़ी संख्‍या में आम जनों की भीड़ जुटी रही। हर कोई राम विलास पासवान की सद्भावपूर्ण राजनीति, संघर्ष, व्‍यक्तिगत मधुर संबंधों की बातें करते रहे। बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडे्य, पूर्व केंद्रीय मंत्री व रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा, सांसद रमा देवी, जदयू नेता आरसीपी सिंह, जदयू प्रवक्‍ता अजय आलोक , पूर्व मुख्‍यमंत्री व हम प्रमुख जीतन राम मांझी , पूर्व मंत्री रेणु कुशवाहा बीजेपी सांसद राम कृपाल यादव सहित कई नेताओं ने उनके आवास पर पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की।

फूट-फूटकर रोए चिराग

इसके पहले उनका पार्थिव शरीर वायुसेना के विशेष विमान से शुक्रवार की शाम साढ़े सात बजे दिल्ली से पटना लाया गया। पटना एयरपोर्ट पर श्रद्धांजलि देते वक्‍त चिराग पासवान फूट-फूटकर रो पड़े। वहां मौजूद सभी की आंखें नम हाे गई। स्‍टेट हैंगर में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी श्रद्धांजलि देते वक्‍त खुद की भावनाओं को काबू न कर सके और उनकी आंखें छलक गईं। वहां केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय, डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी एवं नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी। इसके बाद पासवान के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए लोजपा कार्यालय में रखा गया ।

राष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत कई केंद्रीय मंत्रियों ने शुक्रवार को नई दिल्ली में 12 जनपथ स्थित उनके आवास पर जाकर पासवान को भावभीनी श्रद्धांजलि दी। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिराग पासवान के कंधे पर हाथ रखकर ढाढस बंधाया। 74 वर्षीय रामविलास पासवान का गुरुवार को निधन हो गया था। वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे।

शोक संवेदनाओं का तांता लगा रहा

पटना एयरपोर्ट से पासवान के पार्थिव शरीर को लोजपा कार्यालय लाया गया, जहां उनके नाते-रिश्तेदारों समेत लोजपा के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। मौके पर पासवान की धर्मपत्नी रीना पासवान, पुत्र चिराग पासवान, भतीजा प्रिंस राज के अलावा भारत सरकार के प्रतिनिधि के रूप में केंद्रीय कानून और सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद मौजूद थे।

पासवान के सम्मान में आधा झुका रहा ध्वज

लोकजन शक्ति पार्टी के राष्ट्रीय संरक्षक और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का आठ अक्टूबर को निधन हो गया। जिसके बाद उनके सम्मान में आज राजधानी की विभिन्न इमारतों पर राष्ट्रीय ध्वज आधे झुके रहे। मंत्रिमंडल सचिवालय के आदेश पर पासवान के सम्मान में ध्वज आधे झुकाए गए। विभाग ने आदेश में कहा है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री का जहां अंतिम संस्कार होगा वहां अंत्येष्टि के दिन राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा। मंत्रिमंडल सचिवालय ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं।

शाेक में डूबा बिहार

राम विलास पासवान के निधन पर बिहार में शोक की लहर है। पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव, सीएम नीतीश कुमार, व उनके मंत्रिमंडल के सदस्‍यों, बिहार से जुड़े केंद्रीय नेताओं, बिहार के जनप्रतिनिधियों व नेताओं तथा गणमान्‍य लोगों ने शोक व्‍यक्‍त किया है।

आत्मीय संबंधों के चलते हमेशा याद रहेंगे पासवान : नीतीश

विधानसभा परिसर में रामविलास पासवान के पाॢथव शरीर पर माल्यार्पण के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री के निधन से वह दुखी हैं। इधर कुछ दिनों से उनकी तबीयत खराब थी। हम सबको लग रहा था कि वह स्वस्थ हो जाएंगे, किंतु वह चले गए। उनके जाने से हम सब दुखी हैं। उन्होंने युवावस्था से ही लोगों की सेवा की थी। बड़े पैमाने पर लोगों से जुड़े भी रहे। हमारा उनसे पुराना संबंध रहा है। उन्होंने जो काम किया और जिस आत्मीयता से लोगों से जुड़े रहते थे, उससे लोग उन्हेंं हमेशा याद रखेंगे। एक दिन सबको जाना है, किंतु इस तरह जाने से दुख होना लाजिमी है।

 भाई आप जल्दी चले गए: लालू प्रसाद यादव

राष्‍ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने रामविलास पासवान से अपना 45 साल का रिश्ता बताया और सोशल मीडिया पर अपनी भावनाएं व्यक्त कीं। निधन की खबर सुनने के बाद दुख जताते हुए लालू ने लिखा कि रामविलास भाई आप जल्दी चले गए। इससे ज्यादा कुछ कहने की स्थिति में नहीं हूं। आपके असामयिक निधन का समाचार सुन कर अति मर्माहत हूं। गत 45 वर्षों का अटूट रिश्ता और साथ लड़ी तमाम सामाजिक, राजनीतिक लड़ाइयां आंखों में तैर रही हैं। विदित हो कि पासवान से लालू का गहरा रिश्ता रहा। राजनीतिक बयानबाजियों के दौर में भी कभी लालू ने पासवान के बारे में कभी तल्ख टिप्पणी नहीं की।

 

केंद्रीय मंत्रियों ने जताया निधन पर शोक

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने उन्‍हें याद करते हुए कहा कि रामविलास पासवान ने छह पीएम के साथ काम किया। केंद्रीय मंत्री गिरिरराज सिंह ने कहा कि उनका कोइ्र दुश्‍मन नहीं रहा, मतभेद भले रहे हों। बीजेपी के प्रवक्‍ता सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि वे समाजिक न्‍याय के नेता थे। उन्‍होंने समाज को जोड़ने के लिए जीवन दे दिया। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि रामविलास पासवान का बिहार की राजनीति में योगदान अविस्मरणीय है।

कांग्रेस नेताओं ने व्‍यक्‍त किया शोक

कांग्रेस नेताओं ने रामविलास पासवान के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। बिहार कांग्रेस के प्रभारी

शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि उनकी कमी हर वक्‍त खलेगी। बिहार कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा ने कहा कि रामविलास पासवान का यूं चले जाना भारतीय राजनीति के लिए एक गहरा सदमा है। वे हमेशा याद आते रहेंगे। विधायक दल के नेता सदानंद सिंह, कार्यकारी अध्यक्ष समीर कुमार सिंह, श्याम सुंदर सिंह धीरज, डॉ. अशोक कुमार, कौकब कादरी, अखिलेश प्रसाद सिंह, प्रेमचंद मिश्रा, हरखू झा, एचके वर्मा और राजेश राठौर ने भी शोक व्यक्त किया है।

गणमान्‍य ने दी श्रद्धांजलि

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी ने कहा कि पासवान के निधन से वे मर्माहत हैं। विकासशील इंसान पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी ने कहा कि देश और बिहार के विकास के लिए रामविलास पासवान द्वारा किए गए कार्यों को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने कहा कि बिहार के बेमिसाल लाल रामविलास पासवान के निधन से उन्हें व्यक्तिगत क्षति हुई है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस