दरभंगा, जेएनएन। दरभंगा जिले के 86-केवटी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे महागठबंधन राजद के प्रत्याशी पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दिकी को बिना प्रशासनिक अनुमति के सभा करना महंगा पड़ा है। उनके खिलाफ स्थानीय थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। मामले में राजद के जिलाध्यक्ष भी आरोपित किए गए हैं।

प्राथमिकी यहां के भीएसटी जितेन्द्र कुमार यादव ने सोमवार को दर्ज कराई है। मामले में महागठबंधन समर्थित राजद प्रत्याशी अब्दुल बारी सिद्दिकी एवं राजद जिलाध्यक्ष रामनरेश यादव दोनों आरोपित किए गए हैं। दोनों के विरुद्ध स्थानीय थाना में कोविड - 19 एवं आदर्श आचार संहिता उल्लंघन (violation of model code of conduct) का मामला कांड संख्या 161/20 के तहत दर्ज कराया है। प्राथमिकी में भीएसटी ने बताया है कि दो बजे सूचना मिली कि खिरमा पेट्रोल पंप के समीप स्थित राजद चुनाव कार्यालय के पास करीब पांच सौ व्यक्तियों को एकत्र कर चुनावी सभा की जा रही है। जिसमें सामाजिक दूरी एवं मास्क का प्रयोग नहीं के बराबर किया गया है। नहीं इस कार्य के लिए पूर्व में कोई वैधानिक अनुमति ली गई है।

चुनावी सभा की नहीं ली गई थी कोई अनुमति 

  इस सूचना के सत्यापन एवं आवश्यक कार्रवाई के लिए वीडियो ग्राफर के साथ वरीय पदाधिकारी को सूचित करते हुए खिरमा पेट्रोल पम्प के पास पहुंचा तो देखा कि चुनाव कार्यालय के दक्षिण भाग में राजद जिलाध्यक्ष रामनरेश यादव की अध्यक्षता में महागठबंधन समर्थित राजद प्रत्याशी अब्दुल बारी सिद्दीकी सहित मंचासीन तीस व्यक्तियों एवं उसके सामने बैठे लगभग पांच सौ व्यक्तियों की उपस्थिति में चुनावी सभा संचालित की जा रही थी। जिसमें सामाजिक दूरी एवं मास्क पहने का सर्वथा अभाव था साथ में चुनावी सभा की कोई अनुमति नहीं ली गई थी । इस प्रकार कोविड - 19 एवं आदर्श आचार संहिता के नियम का घोर उल्लंघन किया जा रहा था। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस