भागलपुर। कहलगांव विधानसभा क्षेत्र में मतदान के दौरान दूर-दूर तक दबंग नजर नहीं आए। कमजोर तबके के वोटरों को भयभीत करने वाले खुद ही दहशत में दुम दबाए बिल में घुसे रहे। अ‌र्द्ध सैनिक बलों की चौकसी और उनकी पेट्रोलिंग से सबसे ज्यादा महिलाएं खुश थी। उन्हें बूथों पर सुरक्षा का एहसास था। घर से बिना भय के निकली। सुशीला देवी अपनी बेटी और बहू के साथ वोट देने निकली घर से निकली। बिना भय के, जबकि लोकसभा चुनाव में सुशीला देवी वोट देने निकली थी तो घर के आगे वाले मोड़ पर बैठे असामाजिक तत्वों ने उन्हें धमकी दी थी कि वोट देने जा रही हो तो फलनवा छाप पर देना। धमकी देने वाले गांव के एक दबंग के गुर्गो ने कहा था कि वोट नहीं देने पर अंजाम बहुत खराब होगा। उस घटना से उनका पूरा परिवार दहशत में था। इस बार अ‌र्द्ध सैनिक बलों के जवान सड़क पर बैरियर लगा कर चौकसी कर रहे थे। स्कूल बूथ पर भी सीआइएसएफ के जवान थे। गांव और सड़क के मोड़ पर बैठकर मतदाताओं को धमकी देने वाले दूर-दूर तक नजर नहीं आए। वोट देने के दौरान किसी ने अगर बिना किसी कारण के बहस करने वालों की भी सुरक्षा में लगे जवान आंखों के इशारे से ही भयभीत कर दे रहे थे। हील-हुज्जत करने वालों की बोलती बंद हो जा रही थी। अत्याधुनिक हथियारों से लैस जवानों की गश्ती से महिलाएं खुश थी। माला देवी, स्वीटी कुमारी, करुणा देवी, ममता कुमारी, अतीफा, तरन्नुम ने बताया कि शांतिपूर्ण तरीके से वोट देकर लौट रहे थे। कहीं कोई झंझट नहीं थी। भय का माहौल नहीं था। यह सब जिला पुलिस बल और अ‌र्द्ध सैनिक बलों की चौकसी तथा उन्हें तैनात करने की रणनीति तय करने वाले अधिकारियों की वजह से हुई। पुलिस अधिकारी भी मतदान संपन्न होने तक भ्रमणशील रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस