संवाद सूत्र जलालाबाद (कन्नौज): प्रशासनिक अव्यवस्थाओं और अफसरों के झूठ से महिलाओं का गुस्सा फूट पड़ा। भूख-प्यास से व्याकुल महिलाओं ने जीटी रोड जाम कर दिया। करीब 20 मिनट तक चले हंगामे से दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। अपर मुख्य सचिव का काफिला गुजरा तो पुलिस के हाथ-पांव फूल गए। आनन-फानन में पुलिस ने महिलाओं को समझाकर रास्ता खुलवाया।

जलालाबाद ब्लॉक में आयोजित किसान कल्याण मिशन कार्यक्रम में अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी जाने के बाद हंगामा हुआ। महिलाओं का आरोप था कि अफसरों ने उन्हें झूठ बोलकर यहां बुलाया। दावा किया कि उनसे कहा गया था कि हनुमान मंदिर के पास स्वयं सहायता समूह की बैठक है। मगर जब वह यहां पहुंची तो पता चला कि किसान कल्याण मिशन का कार्यक्रम हैं। किसानों के न आने पर उन्हें बुला लिया गया, ताकि भीड़ दिखे। इससे नाराज महिलाओं ने हंगाम किया। हंगाम करते हुए जीटी रोड जाम कर दिया और सड़क पर बैठकर नारेबाजी की। इससे दोनों तरफ वाहनों की कतार से जाम लग गया। उधर, सौरिख से लौटते समय अपर मुख्य सचिव का काफिला भी जाम में फंस गया, जो पुलिस कर्मियों ने निकलवाया।

------------

बैठने को न दी कुर्सी और न ही मिला खाना

यहां पहुंची महिलाओं को कुर्सियां तक नहीं दी गईं। इससे जमीन पर बैठाया गया। कई घंटे पहले से आने पर भूख प्यास से व्याकुल हो गईं। न लंच पैकेट मिले और न पानी। जब लंच पैकेट बांटे गए तो मारामारी मच गई। इससे अधिकांश महिलाओं को लंच पैकेट नहीं मिले। कुछ तो बिस्किट दिए गए तो फेंक कर। आरोप है कि मंच से कर्मियों ने फेंक-फेंक कर लड्डू बांटे। सुषमा, राम बेटी, शांति देवी, सुखरानी व रामकली ने अनदेखी का आरोप लगाया। कहा समूह को बैठक की जानकारी देकर बुलाया गया था, जबकि किसान मेला निकला। सुबह से बैठे रहे। महिलाओं के ऊपर लड्डू फेंक कर मारे गए। महिलाओं को अपमानित किया गया है।

--------------

किसानों को नहीं दी जानकारी

जलालाबाद के पूर्व प्रधान कमलकांत कटियार, भाजपा नेता सर्वेश पांडेय उर्फ मलिक, सुशील द्विवेदी व अमित मिश्रा ने अफसरों पर लापरवाही का आरोप लगाया। कहा कि कार्यक्रम का प्रचार-प्रसार नहीं किया गया है। इससे किसान जानकारी के अभाव में नहीं पहुंचे। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व समूह की महिलाओं को बुलाकर भीड़ दिखाई गई। एक्सीलेंस फॉर वेजीटेबल प्लांट पर बंजर भूमि को बनाएं उपजाऊ

संवाद सहयोगी, तिर्वा : किसानों की आए दोगुनी करने के लिए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर वेजीटेबल पर्याप्त है। इससे किसानों को जोड़ें और नई तकनीकि से सब्जियों की खेती करने के लिए किसानों को जागरूक करें। प्लांट पर पड़ी बंजर भूमि को उपजाऊ बनाएं। जिससे प्लांट पर कारोबार बढ़ाया जा सके।

गुरुवार को उमर्दा स्थित सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर वेजीटेबल प्लांट का कृषि शिक्षा, अनुसंधान, कृषि विपणन, विदेश व्यापार व निर्यात प्रोत्साहन विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. देवेश चतुर्वेदी ने निरीक्षण किया। उन्होंने परिसर में बंजर पड़ी भूमि को लेकर नाराजगी जताई और कृषि विभाग के अफसरों से बंजर भूमि को उपजाऊ बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्लांट को हाईटेक किया जाएगा। इससे किसानों को जोड़ें। सब्जियों की फसल कर किसानों की आए दोगुनी होने में समय नहीं लगेगा। इसके बाद केंद्र प्रभारी डॉ. डीएस यादव ने केंद्र पर लगे पौधों के बारे में जानकारी दी। इस पर उन्होंने संतुष्टि जताई। इसके बाद अपर मुख्य सचिव ने ठठिया स्थित विशिष्ट मंडी समिति का निरीक्षण किया। विशिष्ट मंडी का अधूरा निर्माण होने पर नाराजगी जताई और संबंधित कर्मचारी व कार्यदायी संस्था के खिलाफ कार्रवाई करने की चेतावनी दी। उन्होंने इत्र पार्क के लिए आवंटित भूमि की जानकारी ली।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप