पटना, भुवनेश्वर वात्स्यायन। Bihar Election 2020:   बिहार में विगत एक दशक से महिलाओं का एक नया वोट बैैंक तैयार हो गया है। यह वोट बैंक अपना वोट जाति पर नहीं करता। पिछले दो विधानसभा चुनाव के आंकड़ों पर गौर करें, तो   महिलाओं की सक्रियता बूथों पर पुरुषों की तुलना में अधिक रही है। यही वजह है कि इस बार सभी दलों ने अपने संकल्प, निश्चय व घोषणा पत्र में महिलाओं के लिए खास घोषणाएं की हैं। युवाओं के बाद सबसे अधिक ध्यान महिलाओं पर है।

जदयू महिलाओं को उद्यमी बनने में करेगा मदद :

जदयू यह दावा करता रहा है कि महिलाओं के थोक वोट उसके साथ रहे हैैं। इस बार के अपने निश्चय पत्र में जदयू ने महिलाओं के लिए कई बातें कही हैं। उनका दावा है कि महिलाएं अगर अपना उद्योग लगाएंगी तो उन्हें परियोजना लागत का 50 फीसदी (अधिकतम पांच लाख) अनुदान के रूप में मिलेगा और पांच लाख रुपए तक ब्याज मुक्त ऋण दिया जाएगा। महिलाओं को शिक्षा क्षेत्र में प्रोत्साहित करने के लिए यह कहा गया कि अगर नीतीश कुमार को फिर से काम करने का मौका मिला तो इंटर पास करने पर अविवाहित महिलाओं को 25 हजार और स्नातक करने पर 50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी।

एक करोड़ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाएगी भाजपा :

भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाए जाने की बात कही है। एक करोड़ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाए जाने का जिक्र है। भाजपा के संकल्प पत्र में यह है कि स्वयं सहायता समूहों तथा माइक्रो फाइनेंस संस्थाओं के माध्यम से महिलाओं को 50.000 करोड़ की व्यवस्था कराकर एक करोड़ नयी महिलाओं को स्वावलंबी बनाया जाएगा।

महागठबंधन ने किया जीविका समूह के लिए वादा

महागठबंधन के घोषणा पत्र में महिलाओं का संदर्भ लेकर जीविका समूह की महिलाओं को प्रति माह चार हजार रुपए प्रतिमाह मानदेय की बात कही जा रही। चार लाख रुपए के ऋण की बात कही गयी है।

लड़कियों को मुफ्त में स्कूटी देगा कांग्रेस :

कांग्रेस के घोषणा पत्र में होनहार बेटियों को मुफ्त में स्कूटी देने की बात कही गई है। जो लड़की बारहवीं कक्षा में 90 प्रतिशत से ज्यादा अंक लाएंगी उन्हें इस योजना का लाभ मिलेगा। बेटियों को केजी से पीजी तक की शिक्षा मुफ्त दी जाएगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस