पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Election 2020:  अपनी-अपनी जिद पर अड़े राजद(RJD)  और कांग्रेस (Congress) आज एक अक्‍टूबर, गुरुवार को पहली अधिसूचना (Notification for the first phase) जारी होने तक भी सीट शेयरिंग (seat sharing)  पर एकमत से फैसला नहीं कर पाए। राजद अभी कांग्रेस को 58 सीटों से अधिक देने के लिए राजी नहीं है और कांग्रेस 70 सीट 'सम्मानजन' मान रही। इस बीच कभी राजद के साथ मजबूती से खड़े भाकपा माले ने अपने 30 उम्मीदवारों के नाम घोषित कर महागठबंधन की एका को थोड़ा और हिला दिया है। इसके पहले टिकट बंटवारे को लेकर राजद की 'रहस्यजनक चुप्पी' से घबराकर हम और रालोसपा महागठबंधन से विदाई ले चुके हैं। भाकपा माले के इस 'विद्रोह' के पीछे राजद की अधिक से अधिक सीटों पर अपने सिंबल पर चुनाव लड़ाने के फैसले को माना जा रहा है।

राजद का साथ छोड़कर जाने वालों को नहीं रोकेंगे

उधर, राजद अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से कहा कि राष्ट्रीय जनता दल का साथ छोड़कर जाने वाले दलों को रोका नहीं जाएगा। दो दिन में गठबंधन की उलझनें सुलझ जाएंगी। राजद के सिद्धांतों पर चलने की चाहत रखने वाले दल राजद के साथ आ सकते हैं। राजद बेरोजगारी के बढ़ते कदम को रोकने के संकल्प के साथ चुनावी मैदान में उतर रहा है। राजद सभी 243 सीटों पर चुनाव लडऩे के लिए तैयार है। 

तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए बेताब

जगदानंद ने दावा किया कि राज्य की भूखी, गरीब जनता और बेरोजगार युवक तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए बेताब है। राजद प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश की आधी आबादी दलदल में फंसी हुई है। बेरोजगारों की फौज बढ़ती जा रही है। बिहार में रोड, बिजली, पुल क्षेत्र में कार्य हुए, लेकिन इनका काम दूसरे राज्यों की कंपनियों को दिया गया। यहां का पैसा दूसरे राज्यों में चला गया। नीति आयोग से मानव विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य, सिंचाई के लिए आई राशि मापदंडों पर खर्च नहीं हो पा रही है।

राजद ने लालू से 150 'सिंबल लेटर' पर कराए हस्ताक्षर :

बुधवार को राजद के खेमे में पटना से रांची तक हलचल रही। राजद ने अपने आलाकमान यानी राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद से 150 'सिंबल लेटर' यानी प्रत्याशियों को चुनाव चिह्न पर लडऩे का अधिकार पत्र पर हस्ताक्षर कराए। राजद नेता भोला यादव पत्र लेकर रिम्स में इलाजरत लालू के पास पहुंचे थे। पार्टी के सूत्रों के अनुसार राजद विधानसभा की 58 सीटें और वाल्मीकिनगर लोकसभा सीट देने का मन बना चुका है। कांग्रेस आलाकमान के हस्तक्षेप के बाद इसमें थोड़ा बदलाव किया जा सकता है।

दिल्ली में रणनीति बनाती रही कांग्रेस :

राजद से मनचाही सीट हासिल करने की रणनीति बनाने के क्रम में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पटना और दिल्ली में बैठकों में व्यस्त रहे। कांग्रेस को अगर सम्मानजनक सीटें नहीं मिलतीं तो क्या विकल्प होगा, इसपर चर्चा के लिए बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल और प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा समेत वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल की मौजूदगी में बैठक की।

कांग्रेस भी हार माननेवाली नहीं

 कांग्रेस राजद के साथ अपने रिश्ते तोडऩे के मूड में नहीं। भले ही राजद ने कांग्रेस को 58 सीटें ऑफर की हों, लेकिन कांग्रेस भी हार मानने वाली नहीं। वह 70 से अधिक सीटों के लिए राजद से बातचीत जारी रखेगी और मान मनौव्वल की कोशिश भी करती रहेगी।

  राहुल , प्रिेयंका और सोनिया गांधी लेंगे फैसला

सूत्रों ने बताया कि गत बुधवार को दो अलग-अलग बैठकें हुईं। पहली बैठक में गोहिल, तारिक, मीरा कुमार ने राजद के साथ रिश्तों और सीटों को लेकर पार्टी के नेताओं की राय जानी। बताया जाता है कि बैठक में शामिल पार्टी के ज्यादा नेता राजद से संबंध तोडऩे के पक्ष में नहीं थे। बैठक में यह राय बनी कि पार्टी बिहार विधानसभा चुनाव के लिए राजद से 70 से अधिक सीटों के लिए बातचीत जारी रखेगी। बैठक में तय किए गए प्रस्ताव की जानकारी जल्द ही पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को दी जाएगी। स्क्रीनिंग कमेटी की दूसरी बैठक में कांग्रेस ने विधानसभा के अपने भावी प्रत्याशियों के नाम पर मंथन किया।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस