जमुई, जेएनएन। Bihar Assembly Election 2020 :  झाझा के चुनाव मैदान में सबसे कम कुल 10 प्रत्याशी हैं लेकिन त्रिकोणीय मुकाबला में तीर और लालटेन के बीच कांटे की टक्कर रहा। यहां पूर्व मंत्री दामोदर रावत की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। झाझा, लक्ष्मीपुर और गिद्धौर प्रखंड को मिलाकर झाझा विधानसभा क्षेत्र से दामोदर रावत ने चार बार जीत दर्ज कर नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में भवन और समाज कल्याण मंत्री पद भी सुशोभित कर चुके हैं। उनके सामने राजद के राजेंद्र यादव, बसपा के विनोद यादव तथा लोजपा के निवर्तमान विधायक डॉ रविंद्र यादव प्रमुख उम्मीदवार हैं।

झाझा विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत बिहार का मिनी शिमला कहे जाने वाले सिमुलतला तथा प्रवासी पक्षियों का अभ्यारण नागी-नकटी जलाशय को पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित करने के साथ-साथ झाझा को अनुमंडल तथा नगर परिषद का दर्जा दिलाने का मुद्दा अहम है। यादव मुस्लिम बाहुल्य विधानसभा क्षेत्र झाझा में अगर माई समीकरण का ध्रुवीकरण हुआ तो जदयू प्रत्याशी के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती है। फिलहाल यादव मतदाताओं के राजद के राजेंद्र यादव, बसपा के विनोद यादव एवं लोजपा के डॉक्टर रविंद्र यादव के बीच बिखराव की संभावना से दामोदर सुकून महसूस करते दिखे।

झाझा विधानसभा में 315691 मतदाता हैं। जिसमें पुरुष 166654, महिला 149035 और थर्ड जेंडर 2 वोटर शामिल हैं।जिसमें से 65 फीसद मतदाताओं ने बढ चढ कर महापर्व में हिस्‍सा लिया। झाझा विधानसभा में मूल बूथ 336 हैं जबकि सहायक बूथ 129 बूथों पर मतदान हुआ।  मतदान केंद्रों पर सुरक्षा के पुख्‍ता इंतजाम किए गए थे। 

झाझा विधानसभा में कुल 10 प्रत्‍याशी चुनाव मैदान में हैं

दामोदर रावत, जदयू

डॉ रविंद्र यादव, लोजपा

राजेंद्र यादव, राजद

विनोद प्रसाद यादव, बसपा

अजीत कुमार यादव, झामुमो

मुकेश कुमार यादव, निर्दलीय

विजय कुमार, निर्दलीय

पंकज ठाकुर, निर्दलीय

राहुल कुमार भवेश, निर्दलीय

विनोद कुमार सिन्हा, निर्दलीय

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस