पटना, भुवनेश्वर वात्स्यायन। Bihar Assembly Election 2020: चुनावी जंग में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के मौन का भी अर्थ तलाशा जा रहा है। सामने वाली की यह व्यथा है कि वह इसका भी विश्लेषण करे।  कोरोना काल (CoronaVirus Era) में बिहार का चुनावी जंग (Electoral Battle) अभी सीधे-सीधे नीतीश कुमार के मौन और उनकी मुुखरता पर केंद्रित है। उनके मौन का भी मतलब निकाला जा रहा है। उन्‍होंने अपनी प्राथमिकताएं भी बखूबी तय की हैं। साथ ही विरोध के बीच अपने मुख्‍यमंत्री चेहरा (CM Face) को भी मजबूती के साथ स्‍थापित किया है।

खुद कुछ नहीं कहा, साथ वाले ने स्पष्ट की स्थिति

लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) बड़े ही सुनियोजित अंदाज में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमलावर थे। राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) से खुद को एलजेपी ने अलग भी कर लिया। एलजेपी के एनडीए से अलग होने के पहले दिन भारतीय जनता पार्टी (BJP) के किसी नेता की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी पर उसके अगले ही दिन नीतीश कुमार व जनता दल यूनाइटेड (JDU) के अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में बीजेपी के राष्ट्रीय व प्रदेश नेताओं ने कई बार यह कहा कि कोई भ्रम नहीं रहे, बिहार में एनडीए का चेहरा नीतीश कुमार ही हैं। बिहार बीजेपी प्रभारी भूपेंद्र यादव ने यह कहा और फिर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने तो यहां तक कह दिया कि बिहार में जिसे एनडीए में रहना है उसे नीतीश कुमार का नेतृत्व स्वीकार करना होगा।

नीतीश मौन रहे और जदयू का तय हो गया स्कोर

नीतीश कुमार मौन रहे और जेडीयू का स्कोर तय हो गया। मुख्यमंत्री ने हेलीकॉप्टर शॉट वाले अंदाज में यह घुमाया कि रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) का वे काफी सम्मान करते हैं, वे जल्द ही ठीक हो जाएं। पर तुरंत यह भी जोड़ दिया कि अगर जेडीयू ने मदद नहीं की होती तो रामविलास क्या राज्यसभा पहुंच जाते? उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने तो यहां तक कह डाला कि अगर रामविलास पासवान स्वस्थ होते तो ऐसी स्थिति आती ही नहीं।

सात निश्चय से जुड़े कैप्सूल में चिराग का संबोधन वायरल

इन दिनों बगैर जेडीयू का जिक्र किए हुए बामुश्किल दो मिनट का एक वीडियो वायरल है। उस वीडियो में एलजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान एक बैठक को संबोधित कर रहे हैं। उसमें वे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सात निश्चय की खूब तारीफ कर रहे हैं। यह वो अंदाज है कि लोहा ही लोहे को काटेगा। मालूम हो चिराग पासवान इन दिनों सात निश्चय में भ्रष्टाचार होने की बातों को ट्वीट कर रहे हैं। यह तय है कि यह वीडियो उन इलाकों में बड़े स्तर पर चलेगा जहां लोजपा की उम्मीदवारी जदयू के खिलाफ हो गयी है।

अपनी प्राथमिकता भी पहले बतायी और सूची भी जारी की

नीतीश कुमार यह बताने में भी अपने को फ्रंट फुट पर रखा कि अगर जनता ने उन्हें फिर से मौका दिया तो वह क्या करने की योजना में है। सात निश्चय-2 की बात विस्तार से बतायी। इसी तरह अपने कोटे की सीटों के लिए  प्रत्याशियों का नाम तय कर उन्हें सिंबल देने में भी वह आगे रहे।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप