जागरण संवाददाता, कन्नौज : योजनाओं के नाम पर जिला सहकारी बैंक शाखा कन्नौज के 85.53 लाख रुपये फंसे हैं। यह धनराशि खाताधारक दबाकर बैठ गए हैं, जिनकी वसूली करना अब बैंक के लिए मुश्किल साबित हो रहा है। यह धनराशि 85 खातों की है, जिसकी कई साल से वसूली नहीं हो पा रही है। इस कारण यह सभी खाते गैर निस्पादित अर्थात एनपीए कर दिए गए हैं। अब इन खातों में किसी तरह लेनदेन नहीं होता है। सिर्फ खाताधारकों से वसूली पर जोर दिया जा रहा है। फिलहाल वसूली के नाम पर बैंक पीछे है। यह सिर्फ कन्नौज शाखा की स्थिति है। जिले में सहकारी बैंक की नौ शाखा हैं। सभी की स्थिति लगभग एक जैसी है।

खाताधारकों को दिए गए नोटिस का असर नहीं पड़ा है। हाल में सीडीओ आरएन सिंह व एआर कोआपरेटिव रामसजीवन वर्मा ने बैंक व समितियों की बैठक की थी। समीक्षा के दौरान बैंक की खराब प्रगति पर नाराजगी जताई थी। प्रगति से 30 फीसद तक अधिक वसूली करने का लक्ष्य सौंपा गया था। 15 जनवरी तक का समय दिया था, लेकिन सुधार नहीं हो सका है। चार तरह के ऋण की फंसी रकम

जिला सहकारी के जो एनपीए खाते हैं व चार तरह के हैं। इनमें व्यक्तिगत खाता, सामान्य उपभोक्ता, पंडित दीनदयाल योजना व वेतन भोगी खाता है। इनमें योजनाओं के नाम पर ऋण दिया गया था, जिसका लाभ लेकर अदायगी नहीं की जा रही है। शाखा प्रबंधक अनुभव सागर ने बताया कि 85.53 लाख में 18 एनपीए खाताधारकों से 17.55 लाख रुपये वसूल किया गया है। शेष से भी वसूली जारी है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप