पटना, जेएनएन। अगर आप भी बिहार की राजधानी के रहने वाले हैं तो सचेत हो जाएं। पटना जिले में 32 हजार 752 मतदाताओं का नाम दो जगह होने की आशंका है। जिलाधिकारी ने इसकी जांच का निर्देश दिया है। 27 हजार 623 मतदाता तो ऐसे हैं, जिनका नाम, तस्वीर और पिता का नाम भी एक से अधिक मतदान केंद्र पर दिख रहा है। 5129 मतदाताओं का नाम संदिग्ध होने की आशंका है।

आवेदनों का प्रतिदिन किया जाए निष्पादन

जिलाधिकारी ने नियमानुसार आवश्यक कार्रवाई करते हुए इसे दुरुस्त करने का निर्देश दिया है। मतदाताओं के नाम, संबंध का नाम, भाग संख्या, क्रम संख्या, इपिक संख्या आदि की जांच की जानी है। डीएम ने समीक्षा के दौरान कहा कि प्रतिदिन दिन के 10 बजे से 11 बजे तक सेवा मतदाताओं से संबंधित प्राप्त होने वाले आवेदनों का निष्पादन किया जाए। 16 फरवरी को प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी पुन: इसकी समीक्षा करेंगे। मतदान केंद्रों का भौतिक सत्यापन पूर्ण करते हुए प्रतिवेदन उपलब्ध कराने को डीएम ने कहा।

कहा कि मतदान केंद्रों पर रैम्प, पेयजल, फर्नीचर, प्रकाश, हेल्पडेस्क, साइनेज, शौचालय आदि की व्यवस्था होनी चाहिए। जिला स्तर पर विभिन्न चरणों में क्रियान्वित किये जाने वाले प्रशिक्षण कार्यक्रम से संबंधित कार्य योजना अविलंब तैयार कर क्रियान्वित करने का निर्देश दिया। पटना जिले में कुल 45 लाख 87 हजार 998 मतदाता हैं। इसमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 24 लाख 11 हजार 985 तथा महिला मतदाताओं की संख्या 21 लाख 75 हजार 836 मतदाता हैं।

मतदान केंद्रों पर मिलेगी जानकारी

पटना जिले के सभी 4620 मतदान केंद्रों पर 17 फरवरी को बीएलओ मतदाता सूची पढ़कर आम लोगों को सुनाएंगे। आपका नाम मतदाता सूची में है या नहीं है, इसकी जानकारी मतदान केंद्रों पर जाकर कर सकते हैं। समीक्षा बैठक में निर्वाचन पदाधिकारी सह जिलाधिकारी कुमार रवि ने यह निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि एक जनवरी 2019 तक 18 वर्ष की उम्र पूरा करने वाला कोई भी युवा-युवती छूटनी नहीं चाहिए। जिलाधिकारी ने पटनावासियों से अपील की कि वे 17 फरवरी को मतदान केंद्रों पर जाएं और मतदाता सूची में अपना नाम देखें। आसपास के किसी व्यक्ति का नाम छूटा है तो जोड़वाने का आग्रह करें।

432 सेक्टर में बांटे गए जिले के मतदान केंद्र

लोकसभा चुनाव में विधि व्यवस्था बनाए रचाने के लिए पटना जिले को 432 सेक्टर में बांट दिया गया है। जिलाधिकारी ने नोडल पदाधिकारी विधि-व्यवस्था/ कार्मिक/निर्वाचन व्यय लेखा कोषांग/वाहन कोषांग को इस संबंध में जानकारी दी है। प्रत्येक तीन मतदान केंद्रों पर एक पीसीसीपी के गठन होगा। जिले में मतदान केंद्रों की संख्या 4620 है।

Posted By: Akshay Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस