गुवाहाटी, प्रेट्र। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने शनिवार को दावा किया कि असम में भाजपा नीत गठबंधन को विधानसभा चुनाव में अपनी हार का आभास हो गया है। तभी उसके गठबंधन सहयोगी यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) ने उग्रवादी संगठनों के आत्मसमर्पण कर चुके सदस्यों को सेना और अर्धसैनिक बलों में नौकरी देने का वादा किया है।

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष खड़गे ने कहा कि भाजपा ने अपने मौजूदा मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को इस बार मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार नहीं घोषित किया है। भाजपा को डर है कि पांच साल में उसकी सरकार द्वारा वादे नहीं निभाए जाने को लेकर सवाल किए जा सकते हैं। असम में सत्तारूढ़ भाजपा ने चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है।

खड़गे ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, यूपीपीएल ने उग्रवादी संगठनों के आत्मसमर्पण कर चुके सदस्यों को सेना और अर्धसैनिक बलों में नौकरी देने का वादा किया है। राज्य स्तर का कोई दल रक्षा बलों में नौकरी दिलाने का वादा कैसे कर सकता है? यह वोटों के लिए जनता को गुमराह करने का हताशापूर्ण प्रयास है। उन्होंने कहा कि इससे संकेत मिलता है कि भाजपा ने हार स्वीकार कर ली है और अपना चेहरा छिपाने का प्रयास कर रही है।

Edited By: Pooja Singh