कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार की ओर से एक लाख 70 हजार करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा के अगले ही दिन भारतीय रिजर्व बैंक ने जिस तरह उद्योग-व्यापार जगत के साथ आम जनता को रियायत देने वाली कई घोषणाएं कीं उनका एक तरह से इंतजार ही किया जा रहा था। रिजर्व बैंक की इन घोषणाओं से एक और जहां ब्याज दरों के सस्ते होने का मार्ग प्रशस्त हुआ वहीं दूसरी ओर नौकरी पेशा वर्ग को अपने कर्ज की मासिक किस्तें प्रदान करने में राहत मिलेगी।

रिजर्व बैंक की ओर से उठाए गए कदमों से अर्थव्यवस्था में 3.74 लाख करोड़ रुपये की नकदी बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है। चूंकि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से उपजे खतरे ने आर्थिक गतिविधियां करीब-करीब ठप कर दी हैं इसलिए रिजर्व बैंक की मुद्रा नीति समिति ने एक ओर जहां अपनी समीक्षा बैठक समय से पहले की वहीं दूसरी ओर आर्थिक वृद्धि दर एवं मुद्रास्फीति के बारे में अनुमान लगाने से बचा गया। ऐसा करके बिल्कुल सही किया गया, क्योंकि आज के दिन कोई नहीं जानता कि भविष्य में क्या हालात बनेंगे?

वास्तव में फिलहाल कोई भी इसका ठीक-ठीक अनुमान नहीं लगा सकता कि कोरोना वायरस का संक्रमण देश और दुनिया में क्या हालात पैदा करेगा और उसके चलते अर्थव्यवस्था पर कितना और क्या असर पड़ेगा? बावजूद इसके तथ्य यह भी है कि देश ही नहीं दुनिया में कोरोना वायरस के दुष्प्रभाव का अपनी-अपनी तरह से आकलन किया जा रहा है। कुछ आकलन इस पर केंद्रित हैं कि किन देशों की कितनी आबादी इस खतरनाक वायरस की चपेट में आएगी तो कुछ यह रेखांकित कर रहे हैं कि दुनिया की अर्थव्यवस्था का कितना बुरा हाल होगा? इस तरह के जो भी आकलन हो रहे हैं उनकी अनदेखी तो नहीं की जा सकती, लेकिन उन पर आंख मूंदकर भरोसा करने और उनके ही हिसाब से रणनीति बनाने का भी काम नहीं किया जा सकता। 

समझदारी इसी में है कि हर तरह के हालात का सामना करने के लिए तैयार रहा जाए और परिस्थितियों के हिसाब से फैसले लिए जाएं। इस पर हैरानी नहीं कि विगत दिवस वित्त मंत्री की ओर से राहत पैकेज की जो घोषणा की गई उसे कुछ लोग अपर्याप्त बता रहे हैं। हो सकता है कि ऐसे लोग रिजर्व बैंक की ओर से उठाए गए कदमों को लेकर भी भिन्न राय व्यक्त करें। इस भिन्न राय का महत्व हो सकता है, लेकिन कोई भी सरकार हो वह अपनी सामर्थ्य भर ही कदम उठा सकती है। फिलहाल जैसे हालात हैं उन्हें देखते हुए सरकार की ओर से उठाए गए कदम अपेक्षा के अनुकूल दिखते हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021