पश्चिम बंगाल की ममता सरकार का विश्व बांग्ला ब्रांड व लोगो को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। यह मामला अब कानूनी लड़ाई की ओर बढ़ चला है। एक ओर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे व सांसद अभिषेक बनर्जी ने झूठे आरोप लगाने के लिए भाजपा नेता मुकुल रॉय को कानूनी नोटिस भेज दिया है तो दूसरी ओर माकपा नेता व विधायक सुजन चक्रवर्ती मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग करते हुए हाईकोर्ट पहुंच गए हैं। उधर प्रदेश कांग्र्रेस ने भी सवाल उठाना शुरू कर दिया है। बंगाल सरकार के दो वरिष्ठ आइएएस अफसरों ने विश्व बांग्ला को लेकर जो बातें कहीं उस पर भी मुकुल ने सवाल उठा दिया है और राज्य के गृह सचिव अत्रि भïट्टाचार्य व अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव सिन्हा के खिलाफ केंद्र सरकार और राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी से शिकायत की है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जिनकी दिमाग की उपज विश्व बांग्ला ब्रांड व लोगो को माना जा रहा है उन्होंने अब तक मुंह नहीं खोला है। क्योंकि, 10 नवंबर को मुकुल रॉय द्वारा आरोप लगाए जाने के बाद ममता लंदन के दौरे पर चली गई थीं। इस बीच उनकी सरकार की ओर से दो बार सफाई दी गई। परंतु, विवाद नहीं थम रहा है। मुकुल अपनी बातों पर अडिग हैं और अभिषेक के कानूनी नोटिस को लेकर भी गंभीर नहीं है। वहीं आगामी 20 नवंबर से विधानसभा का शीतकालीन सत्र भी शुरू होने जा रहा है। ऐसे में विपक्ष इस मुद्दे को लेकर विधानसभा में मुखर हो सकते हैं। डेंगू को लेकर पहले ही विरोधी दल हमले पर हमले कर रहे हैं। ऐसे में एक और मुद्दा हाथ लगने के बाद कोई भी विपक्षी दल इसे हाथ से जाने देने के मूड में नहीं है। आखिर विश्व बांग्ला ब्रांड व लोगो की सच्चाई क्या है? राज्य के गृह सचिव ने साफ किया था कि लोगो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने तैयार किया है और एक समझौते के तहत उसे राज्य सरकार को इस्तेमाल के लिए दिया गया है। अगर ऐसा था तो मुकुल ने जो सवाल उठाए हैं कि जब राज्य सरकार के समझौता हुआ तो अभिषेक ने कॉपी राइट के लिए आवेदन क्यों किया? खैर, इस सवाल पर ही सियासत गर्म है। वहीं प्रदेश कांग्र्रेस अध्यक्ष अधीर चौधरी ने यह कहते हुए सवाल खड़ा कर दिया है कि फीफा के साथ विश्व बांग्ला लोगो का इस्तेमाल पूरी तरह से दंडनीय अपराध है। अब सरकार को इस मुद्दे को पूरी तरह से स्पष्ट कर देना चाहिए। ताकि लोगों के मन में जो शंका उत्पन्न हुई है वह समाप्त हो जाए।
---------------------
(हाईलाइटर::: अगर ऐसा था तो मुकुल ने जो सवाल उठाए हैं कि जब राज्य सरकार के समझौता हुआ तो अभिषेक ने कॉपी राइट के लिए आवेदन क्यों किया? )

[ स्थानीय संपादकीय: पश्चिम बंगाल ]

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस