चीन में कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौतों का आंकड़ा आठ सौ से ऊपर पहुंचने का मतलब है कि वह गंभीर संकट से घिर गया है। चीन इसके पहले 2003 में जब सार्स वायरस की चपेट में आया था तब वहां करीब सात सौ से अधिक लोग मारे गए थे। हालांकि कोरोना की तरह सार्स वायरस भी कई देशों में फैला था, लेकिन उस पर काबू पा लिया गया था। यह चिंताजनक है कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने वालों की संख्या चीन के साथ-साथ अन्य अनेक देशों में भी बढ़ती जा रही है। इससे भी बड़ी चिंता की बात यह है कि अभी कोरोना वायरस के संक्रमण का कोई कारगर उपचार नहीं खोजा जा सका है। यही कारण है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस संक्रमण को दुनिया की सेहत के लिए आपातकाल करार दिया है। यह ठीक है कि चीन समेत दुनिया के कई देश कोरोना वायरस के संक्रमण से उपजी चुनौती से निपटने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती कि यह संकट मूलत: चीन की लापरवाही से उपजा है।

यदि चीन ने कोरोना वायरस को लेकर प्रारंभ में ही सतर्कता बरती होती तो शायद आज स्थिति इतनी गंभीर नहीं होती। उसने केवल जरूरी सावधानी बरतने से ही इन्कार नहीं किया, बल्कि अपने स्वास्थ्य तंत्र को समय पर आगाह भी नहीं किया। चूंकि आम लोग इससे अनजान ही रहे कि एक खतरनाक किस्म के वायरस ने सिर उठा लिया है इसलिए वे अंधेरे में बने रहे और उन पक्षियों के मांस का सेवन भी करते रहे जिन्हें कोरोना वायरस के लिए जिम्मेदार माना जा रहा है। कोरोना वायरस का संक्रमण केवल मानव स्वास्थ्य के लिए ही नहीं, वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए भी संकट बनता जा रहा है।

इस संकट से बचा जा सकता था या उसके असर को कम किया जा सकता था, यदि चीन ने जिम्मेदार देश की तरह व्यवहार किया होता। दुर्भाग्य से उसने वही किया जो तानाशाही व्यवस्था वाले देश करते हैं। चीनी प्रशासन ने जरूरी सूचनाओं को दबाने के साथ ही उन चिकित्सकों को प्रताडि़त किया जिन्होंने कोरोना वायरस की गंभीरता को लेकर आवाज उठाई। उसने एक और गैर जिम्मेदाराना काम यह किया कि कोरोना वायरस के बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन को तो सूचना दे दी, लेकिन अपने लोगों को कुछ नहीं बताया। इसके दुष्परिणाम सामने आने ही थे। संकट से घिरे चीन के प्रति हमदर्दी समय की मांग है और भारतीय प्रधानमंत्री ने चीनी राष्ट्रपति को मदद की पेशकश करके यही किया है, लेकिन विश्व समुदाय को चीन के समक्ष यह भी रेखांकित करना चाहिए कि उसकी लापरवाही ने एक बड़ी मुसीबत खड़ी कर दी है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस