जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली : युवाओं में खत्म हो रही संवदेशनशीलता को जगाने के लिए गैर-सरकारी संस्था दीपालय नुक्कड़ नाटक का आयोजन करेगी। 'कब तक चुप' नामक इस नुक्कड़ नाटक को ककरौला दीपालय की शाखा ने तैयार किया है। इसके लिए युवाओं की एक टीम भी तैयार कर चुकी है। आने वाले समय में यह नुक्कड़ नाटक दिल्ली के चौक-चौराहों पर देखने को मिलेंगे, जो युवाओं में संवेदना का प्रसार करता नजर आएगा। संस्था के आयोजकों के मुताबिक यह नुक्कड़-नाटक युवा समूह के सदस्यों व कर्मचारियों ने तैयार किया है, जो समाज के युवाओं में बढ़ती हुई ¨हसक घटनाओं पर आधारित है। आयोजकों का मानना है कि युवाओं में जोश की कमी नहीं होती, मगर ये जोश सही दिशा में नहीं लगा रहे हैं। शायद यही वजह है कि युवा छोटी-मोटी बातों पर ¨हसक हो जाते हैं। ऐसे में ये अनजाने में अपराधी बन जाते हैं। आयोजकों का कहना है कि इस नाटक के जरिये युवाओं के साथ उनके माता-पिता को भी जागरूक करना चाहते हैं, ताकि युवा अपनी पूरी शक्ति और जोश सही दिशा में लगाएं और समाज को बेहतर दिशा देने में मदद करें।

Posted By: Jagran