जागरण संवाददाता, दक्षिणी दिल्ली : अंबेडकर नगर इलाके में दो माह पहले हुई युवक की हत्या में शामिल तीन बदमाशों को दक्षिणी दिल्ली जिले के एएटीएस (वाहन चोरी निरोधक दस्ता) ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार बदमाशों के नाम अजय अग्रवाल (26), शिवराज (38) और सिंघा राम (38) है। इनके पास से जापान, इंग्लैंड, अमेरिका व इटली में बनी चार विदेशी पिस्तौल, आठ कट्टे एवं कई कारतूस बरामद हुए हैं। अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त चिन्मय बिस्वाल ने बताया कि तीनों बदमाश घोषित भगोड़े हैं और कुख्यात शक्ति नायडू गिरोह के सदस्य हैं। पुलिस इस मामले में पाच आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

बिस्वाल ने बताया कि बदमाशों को पकड़ने के लिए एसीपी (ऑपरेशन) पलविंदर सिंह की देखरेख व एएटीएस के इंचार्ज इंस्पेक्टर रिछपाल सिंह के नेतृत्व में एसआइ किशन कुमार, मंजीत सिंह, एएसआइ अरविंद कुमार, राजवीर सिंह, हेड कांस्टेबल रणवीर, चेतराम, कांस्टेबल गोविंद, मनोज, नेमीचंद, प्रोमिज व हर्ष की टीम बनाई गई। टीम को मंगलवार शाम आरोपियों के वसंत गाव आने की सूचना मिली थी। इसके बाद पुलिस ने जाल बिछाकर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि अंबेडकर नगर में उन्होंने जिस युवक की हत्या की थी वह उनके विरोधी गिरोह का सदस्य था। उसकी हत्या के मामले में जिस शख्स ने एफआइआर दर्ज कराई थी इनका इरादा उसको मारने का था। पुलिस के अनुसार गिरोह के सरगना शक्ति नायडू के गिरफ्तार होने के बाद से ही आरोपी इधर-उधर भाग रहे थे। शक्ति नायडू ने अंबेडकर नगर इलाके में कपड़ों की दुकान शुरू की थी, लेकिन बाद में वह हवाला कारोबारियों को लूटने का काम करने लगा। चूंकि पैसा हवाला का होता था इसलिए कोई एफआइआर दर्ज नहीं करवाता था। दिल्ली-एनसीआर में शक्ति नायडू गिरोह ने कई वारदात को अंजाम दिया है। लाजपत नगर में करीब आठ करोड़ रुपये लूट की वारदात को इसी गिरोह ने अंजाम दिया था। पुलिस ने इस मामले में आरोपियों को गिरफ्तार कर लूट की पूरी रकम बरामद कर ली थी।