-फाइल फोटो

सबहेड : दोनों बदमाशों ने शिनाख्त परेड में शामिल होने से इन्कार किया

क्रॉसर

-सीसीटीवी में तस्वीरें कैद होने से आसानी से पकड़े गए झपटमार

-आकाश उर्फ बादल का बड़ा भाई विक्की भी है कुख्यात बदमाश

जागरण संवाददाता, नई दिल्ली :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भतीजी दमयंती बेन मोदी का पर्स झपटने वाले दोनों झपटमार गौरव उर्फ नोनू व आकाश उर्फ बादल ने टीआइपी (टेस्ट आइडेंटीफिकेशन परेड) यानि शिनाख्त परेड में शामिल होने से इन्कार कर दिया। पुलिस रिमांड की अवधि खत्म हो जाने पर सोमवार को दोनों को तीस हजारी कोर्ट में पेश किया गया, जहां से दोनों को तिहाड़ जेल भेज दिया गया। झपटमारी व लूटपाट के मामले में आरोपितों की पहचान के लिए उन्हें पीड़ितों के सामने लाया जाता है। आरोपितों से कोर्ट में पूछा जाता है कि वह पहचान परेड कराने के लिए तैयार है अथवा नहीं।

अपराध ही पेशा है इनका

पुलिस का कहना है कि गौरव व आकाश दोनों पेशेवर अपराधी हैं। सुल्तानपुरी के रहने वाले आकाश के खिलाफ सुल्तानपुरी व पश्चिम विहार में पहले के झपटमारी के दो मामले दर्ज हैं। आकाश का बड़ा भाई विक्की भी कुख्यात अपराधी है। उसके खिलाफ झपटमारी व लूटपाट के छह मामले दर्ज हैं। पुलिस का कहना है कि दोनों भाई कई सालों से लूटपाट व झपटमारी कर रहे हैं। अब तक 100 से अधिक वारदात कर चुके हैं, लेकिन पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाने के कारण इनके खिलाफ मुकदमे बहुत कम दर्ज हुए हैं।

सूत्रों के मुताबिक स्थानीय पुलिस के अलावा उत्तरी व मध्य जिला के कुछ पुलिसकर्मियों को आकाश व गौरव के पेशेवर झपटमार होने की जानकारी पहले से थी। पुलिस से बचने के लिए दोनों भाई सुल्तानपुरी में किराये के घर में रहते थे। वहीं इस वारदात का दूसरा आरोपित गौरव भी नाबालिग था तभी से झपटमारी कर रहा है फिर भी वह अबतक नहीं पकड़ा गया था। इसके खिलाफ केवल मारपीट का एक मामला दर्ज है।

इस तरह दबोचा गया

शनिवार सुबह राज निवास मार्ग स्थित गुजराती समाज भवन के बाहर आकाश व गौरव ने जब दमयंती बेन मोदी का पर्स छीना तो उनकी तस्वीरें गुजराती समाज भवन प्रशासन द्वारा गेट पर लगाए गए सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थीं। दोनों की तस्वीरों को उत्तरी व मध्य जिले की पुलिस के विभिन्न वाट्सएप ग्रुपों में भेज दिया गया। नबी करीम थाने व उत्तरी जिला के स्पेशल स्टाफ में तैनात कुछ पुलिसकर्मियों ने दोनों की पहचान कर ली। इसलिए नबी करीब थाना पुलिस ने गौरव के साले व अन्य रिश्तेदारों को पकड़कर उनके जरिये आरोपितों तक पहुंचने की कोशिश की अगले दिन रविवार सुबह आरोपित गौरव को सोनीपत में मुरथल के पास स्थित ऋषिकुंज कॉलोनी से पत्नी के रिश्तेदार के घर से गिरफ्तार कर लिया गया।

वहीं गौरव को पकड़ने के लिए पुलिस ने उसके घरवालों से पूछताछ कर उसके सभी संभावित ठिकानों पर कड़ी नजर रखना शुरू कर दिया था, ऐसे में उसके पास कहीं छिपने की जगह नहीं बची थी, फिर भी वह पुलिस से छिपता हुआ घूम रहा था, लेकिन कड़ी निगरानी की वजह से सदर बाजार थाना पुलिस ने आकाश को सुल्तानपुरी बाजार में घूमते हुए पकड़ लिया। पुलिस का कहना है कि इस मामले में जल्द ही आरोपितों के खिलाफ आरोपपत्र दायर कर दिया जाएगा।

दोनों अलग-अलग दिशा में भागे

पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि वारदात के बाद गौरव, आकाश को लेकर सुल्तानपुरी में रह रही अपनी मौसी के घर चला गया था। वहां अपराध में इस्तेमाल स्कूटी छिपाकर रख दी गई। घटना के कुछ ही देर बाद समाचार चैनलों पर दोनों झपटमारों के फुटेज दिखाए जाने पर आकाश की पत्नी ने उसे फोन कर बताया कि उन लोगों की फुटेज दिखाई जा रही है। जिसके बाद दोनों ने मोबाइल बंद कर दिए और अलग-अलग दिशाओं में भाग गए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप