जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली: गाजीपुर के घड़ोली की 10 वर्षीय बच्ची के साथ साहिबाबाद के अर्थला स्थित मदरसे में दुष्कर्म किया गया था। अपराध शाखा की जांच में यह स्पष्ट हुआ है। उधर, दुष्कर्म के विरोध में बुधवार को विभिन्न हिंदू संगठनों ने एनएच-9 पर चार घंटे जाम लगाकर प्रदर्शन किया।

अपराध शाखा ने पूरे मामले की जांच के लिए कई तेजतर्रार अधिकारियों की टीम बनाई है। डीसीपी रामगोपाल नायक ने बुधवार को मदरसे का मुआयना भी किया। अब मदरसे से जुड़े सभी लोगों, मुख्य आरोपित, पीड़ित बच्ची और उसके परिजनों से पूछताछ की जाएगी। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि मदरसा सार्वजनिक जगह है। इसलिए ऐसा संभव ही नहीं है कि डेढ़ दिन तक मासूम को बंधक बनाकर रखा जाए और इसकी किसी को जानकारी ही न हो। उन्होंने इस वारदात के पीछे किसी की शह की आशंका जताते हुए कहा कि अगर बच्ची के पास मोबाइल नहीं होता तो इतनी जल्दी यह भी पता नहीं चल पाता है कि उसे कहां रखा गया है। उधर, अपराध शाखा से जुड़े सूत्रों का कहना है कि सामूहिक दुष्कर्म के पहलू पर भी जांच की जाएगी।

------

वर्जन

स्थानीय पुलिस से बुधवार शाम फाइल मिलते ही मैंने टीम के साथ मदरसे का मुआयना किया। शुरुआती जांच से स्पष्ट है कि मदरसे में ही बच्ची से दुष्कर्म हुआ है। वहां रात को कौन-कौन रहता है, दिन में कौन-कौन आते हैं और किन व्यक्तियों पर यहां की क्या जिम्मेदारी है। इसकी सूची बनाकर सभी से पूछताछ की जाएगी।

रामगोपाल नायक, पुलिस उपायुक्त, अपराध शाखा, दिल्ली पुलिस

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप