जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली : जीटीबी एंक्लेव इलाके में सड़क से कार हटाने के लिए कहना दिल्ली पुलिस के एएसआइ को भारी पड़ गया। आरोप है कि कार मालिक ने रिश्तेदारों के साथ मिलकर एएसआइ और उनके दो साथियों को बुरी तरह से पीट दिया। इसमें एएसआइ महेंद्र ¨सह (52) गंभीर रूप से जख्मी हो गए। उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक घटना 9 सितंबर को हुई। वे बयान देने की स्थिति में नहीं थे। मंगलवार को उनके बयान के आधार पर अपिन भाटी के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। हालांकि आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

जानकारी के मुताबिक महेंद्र ¨सह परिवार के साथ जीटीबी एंक्लेव के जनता फ्लैट में रहते हैं। वे मयूर विहार थाने में एएसआइ के पद पर तैनात हैं। 9 सितंबर को रात 10:50 बजे वे दो साथियों संजय शर्मा और मदन शर्मा के साथ कार से घर की तरफ जा रहे थे। गली में मकान नंबर-1446 के आगे कार सड़क पर खड़ी थी। उन्होंने कार मालिक अपिन भाटी को बुलवाया और हटाने के लिए कहा। इस पर अपिन अपने मामा, साले व एक अन्य युवक के साथ उन पर टूट पड़ा। एएसआइ बचने के लिए भागे तो आरोपितों ने उन्हें रोक कर बुरी तरह से पीट दिया। अन्य दोनों साथियों ने उन्हें कड़कड़डूमा स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। हालांकि आरोपित पक्ष की तरफ कहा गया कि पुलिसकर्मी नशे में थे और रौब दिखा रहे थे। कार अपनी जगह पर ही थी। आरोपों को देखते हुए पुलिस पूरे मामले की पड़ताल कर कार्रवाई करने की बात कह रही है।

सीबीआइ की महिला इंस्पेक्टर से झपटा पर्स

जासं, पूर्वी दिल्ली : पांडव नगर  में सीबीआइ की एक महिला इंस्पेक्टर के साथ झपटमारी की घटना सामने आई है। ऑटो में सवार होकर घर लौट रहीं इंस्पेक्टर से मोटरसाइकिल सवार दो बदमाश पर्स झपटकर फरार हो गए। पीड़ित वीर ज्योत (46) की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है। 46 वर्षीय वीर ज्योति परिवार के साथ मयूर विहार फेस-1 के पॉकेट-5 में रहती हैं। वे सीबीआइ के एंटी करप्शन ब्रांच में इंस्पेक्टर के पद पर तैनात हैं। मंगलवार दोपहर 2:40 बजे वे ऑटो से घर लौट रही थीं। उन्होंने अपना पर्स गोद में रखा था। जब वे एनएच-9 पर समसपुर बस स्टैंड के पास पहुंची तो पीछे से मोटरसाइकिल सवार दो बदमाश आए और उनका पर्स झपटकर भागने लगे। उन्होंने ऑटो चालक की मदद से दूर तक बदमाशों को पीछा किया, मगर बदमाश गाजियाबाद की तरफ भाग गए। वीर ज्योत के मुताबिक उनके पर्स में 10 हजार रुपये, एक मोबाइल और पहचान पत्र था।

Posted By: Jagran