जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पूरे देश को तीन सप्ताह तक पूरी तरह से लॉकडाउन की खबर मिलने के बाद दिल्ली में काम करने वाले अधिकतर मजदूर अब दिल्ली छोड़कर जाने लगे हैं। ऐसा इसलिए भी है कि दिल्ली में काम करने वाले अधिकतर मजदूर व रेहड़ी पटरी वाले लोग यूपी और बिहार के हैं। वहीं, यूपी के मेरठ, मथुरा, बुलंदशहर और आगरा में काम करने वाले मजदूर राज्यों के बॉर्डर सील होने के कारण पैदल ही अपने गांव लौटने लगे हैं, जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल लगातार लोगों से अपील कर रहे हैं कि वह जहां रह रहे हैं वो वहीं रहें। दिल्ली के लोहे वाले पुल को पैदल ही पार कर रहे रवि कुमार ने बताया कि वह मूलरूप से मेरठ के रहने वाले हैं। वह दिल्ली के कश्मीरी गेट के पास रेहड़ी लगाते हैं, लेकिन इनदिनों लॉकडाउन होने के कारण काम बंद हो गया है और खाने के भी लाले पड़ गए हैं। ऐसे में अब अपने गांव जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि वह दिल्ली पार करने के बाद भी मेरठ तक पैदल ही जाएंगे। वहीं, आगरा के रहने वाले रामेश्वर कुमार ने बताया कि वह आगरा के रहने वाले हैं। दिल्ली में एक निजी फैक्टरी में मजदूरी करते हैं, जोकि इन दिनों बंद है। ऐसे में अब पैदल ही घर जा रहे हैं। वहीं, बुलंदशहर के खुर्जा के रहने वाले राजेंद्र और मथुरा के रहने वाले सुरेश ने बताया कि वह भी मजदूरी करते हैं, लेकिन काम बंद होने के कारण दिल्ली में भूखे हैं। ऐसे में घर जाकर वह परिवार के साथ रहेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस