नई दिल्ली । एम्स में प्रतिदिन करीब 10,000 मरीज इलाज के लिए पहुंचते हैं। हर साल करीब 30 लाख मरीजों का इलाज यहां किया जाता है। मरीजों को ओपीडी कार्ड बनवाने से लेकर डॉक्टर से दिखाने और जांच कराने तक की एक लंबी प्रक्रिया से प्रत्येक मरीज को गुजरना होता है। एम्स ने अब इस प्रक्रिया को आसान कर दिया है।

इस समस्या को दूर करने के लिए समाजिक व्यवसायिक जिम्मेदारी (सीएसआर) के तहत आइटी कंपनी टीसीएस ने नया ओपीडी मरीज पंजीकरण केंद्र विकसित किया है। जहां पहले से ऑनलाइन, कॉल सेंटर या टेलीफोन के जरिए अप्वाइंटमेंट लेने वाले मरीजों का ओपीडी कार्ड आसानी से बन सकेगा। इसके अलावा जिन मरीजों के पास पहले से अप्वाइंटमेंट नहीं है तो उनका ओपीडी कार्ड बनाने के लिए अलग काउंटर बनाए गए हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिवस के अवसर पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा और ऊर्जा राज्य मंत्री ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पीयूष गोयल ने एम्स में नए ओपीडी मरीज पंजीकरण केंद्र की शुरूआत की।

उन्हें लाइन में लगकर इंतजार करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यदि यह योजना सफल रही तो एम्स परिवर्तित नजर आएगा और भीड़ भी बहुत हद तक कम हो जाएगी। इसके अलावा चरणबद्ध तरीके से कंप्यूटरीकरण के जरिए एम्स को पूरी तरह पेपर लेस किया जाएगा।

रंग लाई पीयूष गोयल की पहल
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, एम्स निदेशक डॉ. एमसी मिश्रा ने कहा कि पीयूष गोयल की पहल पर एम्स में यह सुविधा विकसित की जा सकी। वह एक बार किसी की आंख का इलाज कराने एम्स आए थे। एम्स में इलाज के लिए जूझते मरीजों की हालत देखकर उन्होंने सुविधा विकसित करने का सुझाव दिया था। पीयूष गोयल ने कहा कि एम्स पूरी तरह पेपर लेस होना चाहिए और डिजिटल इंडिया अभियान के तहत देश भर के मरीजों का मेडिकल रिकार्ड ऑनलाइन किया जाना चाहिए।

इलाज के लिए इंतजार का समय चार घंटे कम हो जाएगा
टीसीएस के सीइओ एन चंद्रशेखरन ने कहा कि अस्पताल बनाना आसान है। लेकिन एम्स जैसे अस्पताल में जहां प्रतिदिन 10,000 मरीज इलाज के लिए पहुंचते हैं। भीड़ की वजह से अव्यवस्था का आलम है। उसे ठीक करना मुश्किल काम है। पिछले एक दशक में तकनीक से स्वास्थ्य के क्षेत्र में कई बदलाव हुए हैं और एम्स में भी परिवर्तन होगा। नए सुविधा शुरू होने से एम्स में इलाज कराने में मरीजों को चार घंटे समय कम लेगा। पहले मरीजों को छह घंटे लाइन में इंतजार करना पड़ता है घटकर दो घंटे तक हो जाएगा।

आकर्षण का केंद्र बने विवेक ओबराय
एम्स में आयोजित कार्यक्रम में फिल्म अभिनेता विवेक ओबराय भी पहुंचे। कार्यक्रम के दौरान वह आकर्षण के केंद्र रहे। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता सुनाकर कहा कि वह प्रेरण के स्रोत हैं। विवेक ओबराय सैकड़ों कैंसर पीडि़त बच्चों की मदद कर चुके हैं!

Posted By: Ramesh Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप