नोएडा, जेएनएन। दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा में कुछ पुलिसकर्मियों की वजह से खाकी एक बार फिर शर्मसार हुई है। आरोपित पुलिसकर्मियों ने शातिर और खूबसूरत महिला की मदद से कितने लोगों को चूना लगाया है? इसकी सही संख्या अभी तक स्पष्ट नहीं है। इस बीच जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ रही है, मामले में नए-नए खुलासे हो रहे हैं। 

जांच की कड़ी में लिफ्ट लेकर कार सवार लोगों पर दुष्कर्म का झूठा आरोप लगा लाखों रुपये की वसूली करने वाले दारोगा गैंग को बुजुर्ग पर भी तरस नहीं आया था। गैंग में शामिल युवती ने बुजुर्ग पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए चौकी प्रभारी की मदद से पांच लाख रुपये वसूल लिए थे। यह घटना अप्रैल की है। अब बुजुर्ग ने भी कोतवाली सेक्टर-39 में दारोगा सुनील शर्मा समेत युवती पर जबरदस्ती वसूली का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई है।

एसएसपी ने सोमवार को दुष्कर्म का फर्जी आरोप लगा कर ब्लैकमेलिंग करने वाले इस गैंग का पर्दाफाश किया था। पुलिस ने चौकी प्रभारी सुनील शर्मा, सिपाही मनोज कुमार, अजयवीर सिंह व देवेन्द्र कुमार के साथ सतीश उर्फ अंकित, विनीता, विपिन सिंह, दुर्वेश, राजेश, अनूप, सलीम खान, हरिओम शर्मा, सुरेश कुमार, देशराज व पूजा को गिरफ्तार कर लिया। यह कार्रवाई दो पीड़ितों की शिकायत पर की गई थी।

63 वर्षीय बुजुर्ग पैन व आधार कार्ड बनाने का काम करते हैं। उनका कहना है कि 12 अप्रैल 2019 को एक युवती पैन कार्ड बनवाने के लिए उनके ऑफिस आई थी। वह तत्काल पैन कार्ड बनाने का दबाव डालने लगी। उन्होंने उसके घर के पते पर एक सप्ताह में पैन कार्ड पहुंचने की बात बताई तो वह उनसे झगड़ा करने लगी। वह पुलिस से शिकायत कर जेल भिजवाने की धमकी देकर चली गई थी।

13 अप्रैल की सुबह उनके घर पर दो गाड़ियों में पुलिस पहुंची। गाड़ी में युवती के साथ सेक्टर-44 चौकी प्रभारी सुनील शर्मा समेत कई लोग थे। दारोगा ने सबके सामने उन पर युवती से दुष्कर्म करने का आरोप लगाते हुए बेइज्जत किया।

छह साल पहले खो चुके हैं यौन शक्ति

बुजुर्ग का कहना है कि वह छह साल से बीमार चल रहे हैं। साथ ही यौन शक्ति भी खो चुके हैं। यह बात उन्होंने पुलिस को भी बताई। मेडिकल रिपोर्ट भी दिखाने की कोशिश की। इसके बाद भी उन्हें धक्का देकर पुलिस की गाड़ी में बैठाकर चौकी लाया गया।

दस लाख थी मांग, पांच लाख देने पर छोड़ा

दारोगा ने समझौता कराने की बात कह उनसे 10 लाख रुपये मांगे। असमर्थता जताने पर युवती ने उन्हें जेल भिजवाने की धमकी दी। दारोगा ने भी डराया कि जिंदगी बर्बाद हो जाएगी। उन्होंने पांच लाख घरवालों से मंगा कर दिए, तब दारोगा ने राजीनामा कराया।

भंगेल सीएससी में देख पहचान गया बुजुर्ग

आरोपितों की गिरफ्तारी की जानकारी मिलने पर बुजुर्ग भंगेल स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा। वहां युवती व दारोगा को देखकर पहचान लिया।

एक पुलिस अधिकारी भी संदेह के घेरे में

पुलिस सूत्रों का कहना है कि दारोगा गैंग को एक पुलिस अधिकारी का भी सपोर्ट था। वसूली गई रकम में से उसे भी हिस्सा जाता था। वह फिलहाल जिले से बाहर है। उसकी भूमिका भी जांच की जा रही है। 

जांच में पता चला है कि युवती से रास्ते में लोगों से कार में लिफ्ट मांगती थी। इसके बाद कुछ दूरी पर कार रोकने को कहती फिर दुष्कर्म का आरोप लगाती। बताया जाता है कि जहां पुलिस खड़ी होती वहां पर गाड़ी रुकवा देती और पुलिस वालों से कहती कि उसका दुष्कर्म हुआ है। 

इस मामले में चौकी इंचार्ज सेक्टर 44 सुनील शर्मा, तीन आरक्षी- मनोज, अजयवीर, देवेंद्र, पीसीआर 50 के तीन प्राइवेट ड्राइवर और 2 महिलाओं को मिलाकर कुल 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: JP Yadav