जासं, नई दिल्ली : आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में क्रिकेटर एस श्रीसंत, अजीत चंदेला व अंकित चौहान सहित 33 आरोपियों की याचिका पर जवाब दाखिल करने में अतिरिक्त समय मांगने पर दिल्ली हाई कोर्ट ने पुलिस को जमकर फटकार लगाई। निचली अदालत से बरी होने के बाद इन लोगों ने पासपोर्ट व अन्य दस्तावेज जारी करने के लिए याचिका दायर की है।

न्यायमूर्ति आशुतोष की पीठ ने दिल्ली पुलिस से पूछा कि आखिर क्या वजह है जो उसे जवाब दाखिल करने के लिए अतिरिक्त समय की दरकार है। मामले की अगली सुनवाई 22 जनवरी 2018 निर्धारित करते हुए हाई कोर्ट ने कहा कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि दिल्ली पुलिस के पास इस मामले में मजबूत साक्ष्य पेश करने के लिए नहीं हैं। स्पॉट फिक्सिंग के मामले में वर्ष 2015 में निचली अदालत से सभी आरोपी बरी हो गए थे। पुलिस ने हाई कोर्ट में निचली अदालत के फैसले को चुनौती दी थी।

Posted By: Jagran