नई दिल्ली [संजय सलिल]। बुधवार देर रात बाहरी दिल्ली के कंझावला इलाके में नामी बदमाश अंचिल की हत्या के बाद दिल्ली पुलिस को फिर गैंगवार के बढ़ने की आशंका है। दरअसल, पुलिस को शक है कि इस हत्याकांड को अंजाम गैंगवार के चलते ही दिया गया है, हालांकि दिल्ली पुलिस ने अब तक आधिकारिक रूप से इसे गैंगवार नहीं माना है। 

शुरुआती जांच में दिल्ली पुलिस को पता चला है कि बदमाश अंचिल का माजरा डबास गांव के दीपक के गिरोह से काफी समय से विवाद चल रहा था। दो लाख रुपये के इनामी बदमाश दीपक को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। ऐसे में पुलिस को शक है कि दीपक ने अपने साथियों से यह वारदात कराई है। 

वहीं, अंचिल का रिकॉर्ड भी खराब है। पिछले साल अप्रैल में अंचिल ने अपने गांव कराला के ही एक युवक को गोली मार दी थी। इस मामले में वह एक माह पहले ही जेल से जमानत पर छूटा था। उस पर अन्य कई मामले भी दर्ज हैं। 

पुलिस को टिल्लू–नीरज बवाना गिरोह शक

अंचिल हत्याकांड को लेकर जांच में जुटी पुलिस को शक है कि टिल्लू-नीरज बवाना गिरोह के शातिर बदमाशों ने अंचिल की हत्या करवाई है।

नीरज बवाना वही गैंग है, जिसे डी कंपनी यानी दाऊद ने जेल में बंद छोटा राजन की हत्या की साजिश रची थी, जिसका खुलासा होने पर दिल्ली पुलिस के साथ खुफिया एजेंसियों के भी होश उड़ गए थे।

नीरज बवाना गैंग हत्या के साथ उगाही के कामों में सक्रिय रहा है। इसके बदमाश दिल्ली-एनसीआर में सक्रिय हैं और मौका मिलनेपर वारदात को अंजाम दे देते हैं।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल अब कुख्यात गैंगस्टर नीरज बवाना गैंग का सफाया करने के लिए अपनी कमर कस चुकी है, लेकिन आशातीत कामयाबी नहीं मिल पाई है। 

अगस्त, 2019 में दिल्ली पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए खूंखार गैंगस्टर नीरज बवाना के 9 शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया था।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस