नई दिल्ली [रणविजय सिंह]। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते जारी गाइडलाइन के कारण दिल्ली-एनसीआर की लाइफलाइन दिल्ली मेट्रो की ट्रेनों में यात्रा करना पहले की तरह अब आसान नहीं रहा है। एक साल बाद भी तमाम प्रतिबंधों के साथ रफ्तार भर रही दिल्ली मेट्रो के स्टेशनों के बाहर भीड़ से यात्रियों के लिए मेट्रो में सफर करना मुश्किल हो रहा है। लोगोंं का कहना है कि दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) को और अधिक छूट देनी चाहिए, जिससे उसके लाखों यात्रियों का सफर आसान हो। इस बीच डीएमआरसी ने आसान यात्रा के मद्देनजर लोगों से अपील की है कि व्यस्त समय में तभी मेट्रो में सफर करें जब बहुत जरूरी हो। यदि संभव हो सके तो अपनी यात्रा सुबह 10:30 बजे के बाद प्लान करें, ताकि परेशानी न हो।

गौरतलब है कि बैठने की पूरी क्षमता के साथ मेट्रो के परिचालन की सुविधा होने के बावजूद यात्रियों की मुश्किलें कम नहीं हुई। अब भी ज्यादातर स्टेशनों पर सिर्फ एक गेट खुले होने व व्यस्त स्टेशनों पर सिर्फ दो गेट खुले होने के कारण स्टेशन के बाहर यात्रियों की लंबी लाइनें लग रही है। लंबे समय से यह परेशानी झेल रहे यात्रियों का सब्र भी अब टूटने लगा है। इस वजह से कई स्टेशनों पर यात्रियों द्वारा जबरन गेट खोलने व सुरक्षा कर्मचारियों के साथ धक्का-मुक्की करने की बातें सामने आई हैं। इसका कारण यह है कि व्यस्त समय में स्टेशनों पर मेट्रो में बैठने की क्षमता से दोगुने यात्री पहुंच रहे हैं। इस वजह से यात्रियों को स्टेशन के बाहर ही रोक दिया जाता है। ऐसे में यात्री देर तक मेट्रो के लिए इंतजार करने को मजबूर हो रहे हैं।

उधर, दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) का कहना है कि कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिए मौजूदा समय में मेट्रो में खड़े होकर सफर करने का प्रविधान नहीं है। यात्रियों की सुविधा के लिए सभी 330 मेट्रो ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। मेट्रो के कुल 2000 कोच में कुल एक लाख यात्रियों के बैठने की क्षमता है, जबकि व्यस्त समय में प्रतिदिन करीब दो लाख लोग सफर करने के लिए पहुंचते हैं। इस वजह से भीड़ को नियंत्रित करने के लिए स्टेशनों पर एक या दो गेट ही खोले जा रहे हैं।

दिल्ली मेट्रो ने यात्रियों का दिया सुझाव, 10 बजे बजे के बाद करें यात्रा

दिल्ली मेट्रो के अधिकारियों का साफ तौर पर कहना है कि यदि सभी गेट खोल दिए जाएंगे तो मेट्रो में भीड़ संभालना मुश्किल हो जाएगा। डीएमआरसी ने यात्रियों से अपील की है कि व्यस्त समय में तभी मेट्रो में सफर करें जब बहुत जरूरी हो। यदि संभव हो सके तो अपनी यात्रा सुबह 10:30 बजे के बाद प्लान करें, ताकि परेशानी न हो। 

Edited By: Jp Yadav