नई दिल्ली [वी.के.शुक्ला]। जनता के वर्षों के इंतजार के बाद बृहस्पतिवार को 352.3 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले पंजाबी बाग से राजा गार्डन तक के फ़्लाईओवर का चौड़ा करने के काम शिलान्यास हो गया।उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शिलान्यास करते हुए इस परियोजना को यातायात जाम को कम कर दिल्ली की तरक्की में गेम चेंजर बताया।उन्होंने कहा कि इससे यात्रियों के समय की बचत होगी और ईंधन की खपत भी कम होगी।

फ्लाईओवर के बनने से प्रतिवर्ष 1.60 लाख टन कार्बन गैस का उत्सर्जन कम होगा और प्रति वर्ष 18 लाख लीटर ईधन की बचत होगी।साथ ही इससे सालाना लोगों के 200 करोड़ रुपये को बचत होगी और परियोजना की कुल लागत मात्र 1.5 सालों में निकल जाएगी।कार्यक्रम मे विधायक शिव चरण गोयल, गिरीश सोनी भी मौजूद थे। इस परियोजना के तहत पंजाबी बाग स्थित दोनों सिंगल फ्लाईओवर को डबल किया जाएगा।

यहां मौजूदा दोनों फ्लाईओवर 2-2 लेन के हैं और दोनों फ्लाईओवर ही वन-वे हैं।वर्तमान दोनों फ्लाईओवर की एक-एक लेन को बढ़ाकर तीन लेन का किया जाएगा और इसके साथ ही दोनों फ्लाईओवर के साथ तीन-तीन लेन के नए फ्लाईओवर तैयार किए जाएंगे जिससे फ्लाईओवर टू-वे हो जाएंगे।फ्लाईओवर को चौड़ा करने के साथ इसका पंजाबी बाग़ से राजा गार्डन तक 1400 मीटर तक विस्तार भी किया जाएगा।

पंजाबी बाग फ्लाईओवर और राजा गार्डन फ्लाईओवर के बीच का ये कारिडोर रिंग रोड का हिस्सा है और यहां यातायात का लोड काफी ज्यादा है क्योंकि यहां रोहतक रोड (एनएच -10) का उपयोग करके हरियाणा का यातायात आता है।साथ ही ये उत्तरी दिल्ली को दक्षिणी दिल्ली, गुरुग्राम व एनसीआर के अन्य हिस्से से जोड़ने का भी काम करता है।य

हां मौजूद वन- वे फ्लाईओवर और कम क्षमता वाले चौराहों वर्तमान के यातायात लोड के लिए पर्याप्त नहीं है, जिससे यहां ट्रैफिक जाम की समस्या पैदा होती है। इस कोरिडोर के निर्माण से मौजूदा रोड का यातायात एलिवेटेड रोड पर शिफ्ट हो जाएगा और इससे रोजाना दिल्ली एनसीआर के लाखों लोगों को फायदा होगा।

पंजाबी बाग फ्लाईओवर और राजा गार्डन फ्लाईओवर के बीच कारिडोर डेवलपमेंट व स्ट्रीट नेटवर्क कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट के मुख्य बिंदु

  • - ईएसआइ अस्पताल से पंजाबी बाग क्लब रोड तक छह लेन के एलिवेटेड कोरिडोर का निर्माण
  • - पंजाबी बाग स्थित दोनों मौजूदा दो-दो लेन वाले वन-वे फ्लाईओवर की क्षमता बढ़ाकर वहां छह लेन के टू-वे फ्लाईओवर का निर्माण 
  • ईएसआइ अस्पताल के पास मौजूदा सबवे रैंप को कैरिजवे के दोनों ओर सर्विस रोड की ओर स्थानांतरित करना
  • इनके अतिरिक्त आरसीसी ड्रेन, फुटपाथ, मौजूदा रोड का सुदृढ़ीकरण व आर्ट-वर्क आदि का कार्य।

नए फ्लाईओवरों से जनता को होने वाले लाभ

  • इस दोनों फ्लाईओवर से प्रतिदिन 1.25 लाख वाहन गुजरेंगे 
  • प्रति वर्ष 18 लाख लीटर ईधन की होगी बचत 
  • जाम न लगने से 27,000 मैन-आवर की होगी बचत 
  • हर साल 1.60 लाख टन कार्बन गैस का उत्सर्जन कम होगा
  • हर साल जनता के 200 करोड़ रुपये की बचत होगी
  • 1.5 साल में पूरी तरह फ्लाईओवर की लागत की रिकवरी हो जाएगी।

Edited By: Pradeep Kumar Chauhan

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट