नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। इंटरनेट मीडिया की वजह से दिल्ली ही नहीं पूरे देशभर में मशहूर हुए बाबा का ढाबा के मालिक कांता प्रसाद द्वारा बृहस्पतिवार रात को सुसाइड करने के मामले में नया खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस की पूछताछ में पत्नी बादामी देवी ने बताया है कि उनके पति कांता प्रसाद पिछले कई दिनों से डिप्रेशन में थे, इसलिए उन्होंने पहले शराब पी और फिर नींद की दवाइयां ले लीं। वहीं, सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कांता प्रसाद की हालत अब खतरे से बाहर बताई जा रही है। 

आखिर डिप्रेशन में क्यों हैं बाबा के ढाबा के बाबा कांता प्रसाद

फूड ब्लॉगर गौरव वासन ने पिछले साल बाबा के ढाबा के मालिक कांता प्रसाद की बेबसी को वीडियो की शक्ल देकर इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिया। इसके कुछ घंटों बाद यह वीडियो आम जन के साथ बॉलीवुड की दुनिया और क्रिकेटरों के बीच पहुंच गया। क्रिकेटर्स से लेकर बॉलीवुड स्टार्स तक ने लोगों से आर्थिक मदद की गुहार लगाई थी। इसके बाद बाबा को मदद के रूप में लाखों रुपये मिले। बताया जा रहा है कि मदद के रूप में पैसे से दिसंबर, 2020 में कांता प्रसाद ने दिल्ली के मालवीय नगर में एक नए रेस्तरां शुरू किया था। खास बात यह है कि उन्होंने इस रेस्तरां का 'बाबा का ढाबा' रखा था, जिस नाम से वह सड़क किनारे ढाबा चलाते थे।

लॉकडाउन ने रेस्तरां कर दिया लॉक

कांता प्रसाद की मानें तो कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों ने उनके रेस्तरां को बहुत नुकसान पहुंचाया। भारी नुकसान के चलते कांता प्रसाद को रेस्तरां को इसी साल फरवरी में बंद करना पड़ा। कांता प्रसाद का कहना है कि इस रेस्तरां के संचालन में एक महीने एक लाख रुपये का खर्च आ रहा था। इनमें 36,000 रुपये कर्मचारियों को देना पड़ते थे, जबकि इस जगह का किराया 35,000 रुपये महीना था। कुलमिलाकर आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपैया जैसा हाल हो गया। आखिरकार कांता प्रसाद ने रेस्तरां बंद कर ढाबा दोबारा शुरू किया है। 

गौरतलब है कि बाबा का ढाबा के मालिक 80 वर्षीय कांता प्रसाद ने बृहस्पतिवार रात को नींद की गोलियां खाकर सुसाइड की कोशिश की, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दिल्ली पुलिस का कहना है कि कांता प्रसाद ने सुसाइड की कोशिश की थी। फिलहाल उनकी हालत स्थिर है।

Edited By: Jp Yadav