नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। राजधानी में लगातार पानी की किल्लत बनी हुई है। वजीराबाद बैराज में एक बार फिर से जलस्तर घटकर 668.30 फीट पहुंच गया, जबकि इसका सामान्य जलस्तर 674.50 फीट है। जल बोर्ड के अनुसार हरियाणा से यमुना नदी में कच्चा पानी छोड़ने में कमी के कारण उसके वजीराबाद, चंद्रावल और ओखला जल शोधक संयंत्रों से पेयजल आपूर्ति प्रभावित हो रही है।

ये संयंत्र कम क्षमता से चल रहे हैं। इससे शुक्रवार से इन संयंत्रों से जुड़े इलाकों में पेयजल संकट बढ़ने के आसार हैं।जल बोर्ड के अनुसार बैराज में जलस्तर सामान्य होने तक इन संयंत्रों से जुड़े इलाकों में पेयजल आपर्ति प्रभावित रहेगी।

इनमें नई दिल्ली के तमाम इलाकों समेत सिविल लाइन, हिंदू राव अस्पताल, कमला नगर, शक्ति नगर, करोल बाग, पहाड़गंज, राजेंद्र नगर, पटेल नगर, बलजीत नगर, प्रेम नगर, इंद्रपुरी, कालकाजी, गो¨वदपुरी, तुगलकाबाद, संगम विहार, अंबेडकर नगर, प्रहलादपुर, रामलीला ग्राउंड, दिल्ली गेट, सुभाष पार्क, माडल टाउन, गुलाबी बाग, पंजाबी बाग, जहांगीरपुरी, मूलचंद, साउथ एक्सटेंशन, ग्रेटर कैलाश, बुराड़ी, दिल्ली छावनी और आसपास के कुछ हिस्से में पानी की किल्लत रहेगी। 

वहीं, दिल्ली के कृष्णा नगर के न्यू लायलपुर कालोनी में एक महीने से पीने के पानी की आपूर्ति बंद पड़ी है। कालोनी में रहने वाले लोगों को जल बोर्ड द्वारा पर्याप्त टैंकर भी नहीं मिल पा रहे हैं। क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि जलबोर्ड की लापरवाही के कारण लोगों को मजबूरन बाजार से पानी खरीदकर पीना पड़ रहा है।स्थानीय निवासी मनीष चौहान ने बताया कि पिछले कई दिनों से दिल्ली जल बोर्ड द्वारा घरों में दूषित पानी की आपूर्ति हो रही थी।

गंदे पानी की समस्या को लेकर अधिकारियों ने पाइपलाइन की जांच की। अधिकारियों ने समस्या का समाधान कराने के बजाय पाइपलाइन को ही बंद कर दिया है। क्षेत्र में एक महीने से घरों में जल बोर्ड द्वारा पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। क्षेत्र में लोगों को पानी के जितने टैंकरों की आवश्यकता है उतने पर्याप्त टैंकर नहीं मिल पा रहा है। लोगों की प्रतिक्रियाकालोनी में रहने वाले लोग दिल्ली जल बोर्ड के टैंकर पर निर्भर है।

Edited By: Pradeep Chauhan