नई दिल्ली (निहाल सिंह)। कोरोना जैसी महामारी से लोग क्वांटराइन होने से घबराते हैं और सोचते हैं कि पता नहीं वहां पर कैसी व्यवस्था होगी। क्या करना होगा और क्या नहीं। लेकिन, दिल्ली में एक ऐसा क्वारंटाइन सेंटर हैं जहां पर लोगों को व्यस्त और स्वस्थ रखने के लिए अनोखा प्रयोग किया गया है। यहां पर क्वारंटाइन किए गए लोग न केवल बैंटमिंटन खेल सकते हैं बल्कि क्रिकेट और वाॅलीबाल भी खेल सकते हैं। बस इन खेलों को खेलने की एक ही शर्त है शारीरिक दूरी। शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते हुए यह खेल क्वारंटाइऩ किए गए लोग खेल सकते हैं।

दरअसल, गुरूद्वारा मजनू का टीला से इन लोगों को नेहरू विहार के सर्वोदय कन्या विद्यालय में एक अप्रैल को क्वारंटाइन किया गया था। क्वारंटाइन किए जाने के बाद कई लोग आपस में लड़ रहे थे या फिर कोई छत पर चढ़ रहा था। वहीं कुछ लोगों ने भागने की भी कोशिश की थी। इसके बाद जब इन लोगों से प्रशासन ने बात की तो लोगों ने समय न व्यतीत होेने की समस्या बताई।

कई खेल की है व्यवस्था

इसके बाद मध्य दिल्ली जिलाधिकारी निधि श्रीवास्तव ने डॉक्टरों की राय लेने के बाद इनको क्रिकेट, बैंटमिंटन और वॉलीबाल उपलब्ध कराई। अब यहां पर लोग सुबह खाना खाते हैं और दोपहर और शाम को अपनी पंसद के अनुसार खेल गतिविधियों में हिस्सा लेते हैं। इस खेल सामग्री के उपलब्ध कराने के बाद कोई घटना न ही भागने के प्रयास की सामने आई और न ही गलत गतिविधि की।

शारीरिक दूरी का रखा जाता है पूरा ख्याल

कोरोना के संक्रमण को देखते हुए क्वारंटाइन किए गए लोगों को खेलने की छूट तो दी गई हैं लेकिन इस बात का पूरा ख्याल रखा जा रहा है कि शारीरिक दूरी के नियम का पूरी तरह से पालन हो। इसकी निगरानी के लिए यहां पर सिविल डिफेंस के वालंटियर यहां पर तैनात किए जाते हैं। इन लोगों को सैनिटाइजर और साबुन उपलब्ध कराए गए हैं। वहीं जरुरत के हिसाब से मंजन और टूथब्रश भी उपलब्ध कराए गए हैं।

नशे की छूट रही है आदत

क्वारंटाइन किए गए करीब 20 लोगों को विभिन्न प्रकार नशे की आदत थी। लेकिन यहां पर नशा मुक्ति के डॉक्टरों की टीम को तैनात किया गया है। यह टीम इन लोगों की काउंसलिंग कर रही है। इसमें टीम को सकारात्मक परिणाम भी नजर आ रहे हैं। लोग अब नशे की सामग्री की मांग भी नहीं कर रहे हैं। उम्मीद है कि 14 दिन के क्वारंटाइन के बाद यह लोग नशामुक्त भी हो जाएंगे।

अधिकारी ने कहा

सिविल लाइंस के एसडीएम प्रवीण तायल ने बताया कि मानसिक रूप से लोग अपने आप को बंधा हुआ न समझे और लोग व्यस्त रहें इसके लिए कुछ खेल खेलने की छूट दी है। लेकिन यह सुनिश्चित किया जा रहा कि शारीरिक दूरी के नियम का पूरी तरह पालन हो।

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस