नई दिल्ली, एएनआइ। लॉकडाउन होने के चलते देशभर में लोगों के जगह-जगह फंसने के अजब-गजब हादसे सुनने-पढ़ने को मिल रहे हैं। सोमवार को घरेलू उड़ानों की शुरुआत हुई तो एक 5 वर्षीय बच्चे की हैरान करने वाली दास्तान सामने आई। दिल्ली एयरपोर्ट से एक 5 साल का बच्चा अकेले ही विमान यात्रा कर सैकड़ों किलोमीटर दूर कर्नाटक पहुंचा और करीब 3 महीने बाद वह अपनी मां मिला।

कर्नाटक की फ्लाइट में अकेले बैठकर गया बच्चा

समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, 5 वर्षीय विवान शर्मा सोमवार सुबह कर्नाटक की फ्लाइट में अकेले ही बैठकर बेंगलुरु गया। इस दौरान विमान में न तो विवान शर्मा का कोई जानकार बैठा था और न कोई रिश्तेदार। बेंगलुरु पहुंचने पर वह एयरपोर्ट के बाहर अपनी मां मंजरी शर्मा से मिला तो बेहद भावुक था। दरअसल, सोमवार दोपहर में हुई मुलाकात के दौरान मां-बेटे दोनों ही भावुक हो गए। यह मीडियाकर्मियों के लिए अद्भुत लम्हा था।   

विवान शर्मा की मां मंजरी शर्मा की मानें तो उनका बेटा विवान दिल्ली अपने दादा-दादी के पास गया था और पिछले 3 महीने से दिल्ली में ही रह रहा था। बीच में आना भी चाह रहा था, लेकिन लॉकडाउन के चलते और लगातार बढ़ते रहने के चलते मजबूरीवश दिल्ली ही रहना पड़ा। बता दें कि दिल्ली में विहान के दादा-दादी रहते हैं और पिछले तकरीबन महीने तक उन्हीं के पास रहा। 

एयरपोर्ट पर लेने आई मां

मंजूरी शर्मा की मानें तो तीन महीने बाद उनमें अपने बेटे विवान शर्मा को देखने की ललक थी। जब विवान बेंगलुरु पहुंचा तो उसकी मां मंजरी वहां पर पहले से मौजूद थीं। वहीं, एयरपोर्ट पर मौजूद स्टाफ ने हालात के मद्देनजर 5 साल के विवान को उसकी मां मंजरी तक पहुंचाया, जो वहां पर बेटे का इंतजार कर रही थीं।

दिल मिले पर गले न लग पाई मां

मंजरी शर्मा अपने बेटे विवान से मिलीं तो वह बेहद भावुक थीं, लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण के चलते उन्होंने अपने बेटे को गले लगाना तो दूर उसे हाथ तक नहीं लगाया।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस