नई दिल्ली [संतोष कुमार सिंह]। दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में कोवैक्सीन का एक दिन का और कोविशील्ड का तीन-चार दिनों का डोज बचा हुआ है। वह दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीएमसी) द्वारा गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब में स्थापित कोरोना केयर सेंटर का उद्घाटन के बाद मीडिया से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि दिल्ली में वैक्सीन की कमी है, केंद्र सरकार को जल्द उपलब्ध कराना चाहिए।

जल्द शुरू होगा रामलीला मैदान में बनाया जा रहा अस्थायी अस्पताल

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से संक्रमण दर में कमी आ रही है। संक्रमितों की संख्या भी कम हो रही है। इसके बावजूद तैयारी में कोई कमी नहीं होनी चाहिए। हर तरह से सतर्क रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जीटीबी अस्पताल के बाहर व रामलीला मैदान में बन रहे अस्थायी कोरोनो अस्पताल एक दो दिनों में शुरू हो जाएंगे। उम्मीद है कि केंद्र सरकार जल्द जरूरत के अनुसार आक्सीजन उपलब्ध कराएगी। कुछ दिनों पहले दिल्ली को सात सौ टन आक्सीजन मिली थी, लेकिन अब इसमें कमी हो गई है।

मरीजों को होगी सुविधा

उन्होंने कहा कि गुरुद्वारा रकाबगंज में चार सौ बिस्तर वाला कोरोना केयर सेंटर शुरू होने से मरीजों को इलाज कराने में आसानी होगी। इसे लोकनायक अस्पताल के साथ जोड़ा गया है। यदि किसी की तबीयत ज्यादा खराब होती है तो उसे तुरंत लोकनायक अस्पताल में भर्ती किया जाएगा। दिल्ली में अलग-अलग स्थानों पर इस तरह के कई सेंटर बनाए जा रहे हैं।

अमिताभ के दान पर विवाद

वहीं, इस कोरोना केयर सेंटर के लिए अभिनेता अमिताभ बच्चन द्वारा दो करोड़ रुपये दिए जाने पर विवाद शुरू हो गया है। जग आसरा गुरु ओट (जागो) ने कहा कि 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद बच्चन ने सिखों के खिलाफ नारे लगाए थे। यदि जागो को डीएसजीएमसी की सेवा का अवसर मिलेगा तो दो करोड़ रुपये उन्हें वापस कर दिया जाएगा।