नई दिल्ली [रजनीश पाण्डेय]। दक्षिण-पूर्व जिले की साइबर थाना पुलिस ने लोगों को अमेजान में नौकरी दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों के कब्जे से पुलिस को दो लैपटाप, दो मोबाइल, एक मोबाइल कम टैबलेट, चार डेबिट कार्ड व पांच चेकबुक बरामद हुए हैं। पुलिस ने बैंक खातों को सीज भी किया है जिनमें कुल मिलाकर करीब पांच लाख रुपये थे।

दक्षिण-पूर्व जिले की पुलिस उपायुक्त ईशा पांडेय ने बताया कि 08 अप्रैल को शिकायतकर्ता आकांक्षा ने साइबर थाने में उनके साथ हुई धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया। पीड़िता ने पुलिस को बताया कि कुछ ठगों ने मिलकर धोखे से उन्हें अमेजान एप में नौकरी दिलाने के नाम पर उनके खाते से चार लाख रुपए उड़ा दिए। इसके लिए ठगों ने उन्हें मैसेज में एक लिंक भेजा था जिस पर क्लिक करते ही उनके खाते से चार लाख कट गए। आरोपितों की पहचान शकरपुर निवासी मोनिंदर श्रीवास्तव (42) व नोएडा निवासी प्रमोद प्रभाकर (40) के रूप में हुई है।

छानबीन के लिए अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त-द्वितीय राजीव कुमार अंबस्ता के नेतृत्व व एसीपी मनोज सिंहा देखरेख में इंस्पेक्टर कुलदीप शेखावत, एसआइ अतुल यादव व हेडकांस्टेबल सतेंद्र की एक टीम बनाकर जिम्मेदारी सौंपी गई। इसके बाद टीम ने पीड़िता के मोबाइल व सीडीआर की सारी डिटेल ली। इसके बाद तकनीकि विशेषज्ञों की मदद से रिसीपींट खाते के स्वामी के नाम का पता लगाया। उसकी पहचान शकरपुर निवासी मोनिंदर श्रीवास्तव(42) के रूप में हुई।

सख्ती से पूछताछ करने पर मोनिंदर ने अपने एक अन्य साथी नोएडा निवासी प्रमोद प्रभाकर(40) के बारे में बताया। मोनिंदर की निशानदेही पर आरोपित प्रमोद को नोएडा से गिरफ्तार कर लिया गया। उसके कब्जे से उपरोक्त इलेक्ट्रानिक गैजेट व बैंक से संबंधित कागजात बरामद हुए। साथ ही पुलिस ने कुछ बैंक खातों को भी सीज कर दिया।

फोन हैक करके लगाते थे खाते में सेंध

आरोपितों ने अपना जुर्म कुबूल करते हुए बताया कि वे लोगों को अमेजान में नौकरी का मैसेज अनिश्चित रूप से किसी को भी भेज देते थे। इस मैसेज में आरोपित एक ऐसा लिंक अटैच करके रखते थे, जिस पर क्लिक करते ही पीड़ितों का मोबाइल हैक हो जाता था। साथ ही उस नंबर से संबंधित बैंक खाते की ओर से एक ओटीपी पीड़ित के मोबाइल पर आ जाता था। जिसका प्रयोग कर आरोपित पीड़ितों के खाते साफ कर देते थे। आरोपितों ने बताया कि इस सबमें चार अन्य आरोपित भी उनका साथ दे रहे थे। फिलहाल पुलिस अन्य आरोपितों की पहचान व मामले की जांच में जुटी हुई है।

Edited By: Prateek Kumar