नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दुष्कर्म की शिकार एक किशोरी ने डाबड़ी थाने में आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। आरोपित के बारे में पीड़िता को सिर्फ उसका नाम व चेहरा ही पता था। इसके बाद डाबड़ी थाने में तैनात एक महिला सब इंस्पेक्टर ने आरोपित के नाम के दर्जनों प्रोफाइल को खंगाला और सभी की तस्वीर पीड़िता को दिखाई। जब पीड़िता ने आरोपित को पहचान लिया तो उसे दबोचने के लिए महिला सब इंस्पेक्टर ने फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी। आरोपित ने उसे स्वीकार कर लिया। इसके बाद सब इंस्पेक्टर ने मिलने के बहाने उसे बुलाकर गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि 30 जुलाई को एक किशोरी की तबीयत खराब होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती किया। पता चला कि किशोरी गर्भवती है। मामले की सूचना पुलिस को दी गई। सूचना के बाद डाबड़ी थाना पुलिस मौके पर पहुंची, जहां किशोरी ने पुलिस को दुष्कर्म की जानकारी दी। किशोरी ने अपने बयान में पुलिस को बताया कि आकाश नाम के युवक ने उससे दोस्ती की। इसके बाद उससे कई बार दुष्कर्म किया। जब पीड़िता विरोध करती थी तो वह शादी करने का झांसा देकर उसे चुप करा दिया करता था।

पुलिस ने किशोरी द्वारा बताए गए पते पर आरोपित को तलाश करने की कोशिश की, लेकिन वह अपना ठिकाना बदल लेता था। ऐसी स्थिति में फेसबुक पर दोस्ती कर महिला सब इंस्पेक्टर ने उसे दशरथपुरी मिलने के लिए बुलाया, लेकिन वह वहां नहीं आया। एक बार फिर पुलिस ने कोशिश की और उसे महावीर एन्क्लेव बुलाया गया। इस बार आरोपित वहां पहुंच गया, लेकिन मौके पर पहुंचने के बाद आरोपित को शक हो गया और वह भागने लगा। इस दौरान सतर्क पुलिसकर्मियों ने उसका पीछा कर उसे दबोच लिया।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari