नई दिल्ली [शुजाउद्दीन]। सरकार का कहना है दूसरे राज्यों से रात के वक्त दिल्ली में आने वाले यात्रियों के लिए बस और ट्रेन का टिकट ही कर्फ्यू पास है। लेकिन आनंद विहार बस अड्डे के पास तक उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और बिहार की निजी बसें धड़ल्ले से यात्रियों को ला रही हैं, ताज्जुब इस बात का है कि यात्रियों से किराया पूरा लिया जा रहा है और टिकट के नाम पर एक कागज की रसीद तक उन्हें नहीं दी जा रही। रात के वक्त दूसरे राज्यों से आने वाले लोग खुद को यात्री साबित करने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं, पुलिस उन्हें अपना निशाना बना रही है।

आनंद विहार बस अड्डे पहुंचने के बाद अगर कोई यात्री टैक्सी और आटो लेकर दस बजे के बाद दिल्ली में कहीं जा रहा है तो उसे पुलिस का शिकार होना पड़ रहा है, पुलिस उनसे कर्फ्यू पास मांगती है। वह खुद को यात्री बताते हैं तो पुलिसकर्मी मारने को दौड़ने लगते हैं। यात्रियों के पास दिखाने के लिए बस का टिकट तक नहीं होता है।

यात्री सोनू ने कहा कि आनंद विहार इलाके में एक कंपनी में नौकरी करता हूं और नोएडा रहता हूं। बस से सफर करता हूं। नौ बजे आफिस की छुट्टी होती है। जिस जगह पर आफिस है, वहां से नोएडा की बस नहीं मिलती। बस के लिए आनंद विहार अड्डे तक पैदल ही जाता हूं। रास्ते में पुलिसकर्मी पकड़ लेते हैं, कई बार तो दुर्व्यवहार करने लगते हैं। टिकट मांगते हैं, उन्हें टिकट तो तभी दिखा पाऊंगा न जब बस में सफर करूंगा।

यात्री मोहन ने कहा कि लाकडाउन में कामकाज ठप होने पर बिहार चला गया था, हरियाणा के रोहतक में काम मिला है। अपने साथियों के साथ बिहार से एक निजी बस से आनंद विहार पहुंचा। चालक ने अड्डे के बाहर छोड़ दिया, बस में टिकट भी नहीं मिला। दूसरी बस का इंतजार कर रहा था, पुलिसकर्मी बार बार आकर भगाने लगे। उनसे कहा भी की यात्री हूं। इसपर वह टिकट मांगने लगे, जबकि बस में टिकट मिला ही नहीं था।

एसडीएम विवेक विहार देवेंद्र शर्मा ने कहा कि इस तरह की समस्या मेरे संज्ञान में नहीं है। निजी बस वाले अगर यात्रियों को टिकट नहीं दे रहे हैं तो पुलिस और संबंधित विभाग से बात करके उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पुलिस से भी बात की जाएगी जो यात्री ट्रेन और बसों से दूसरे राज्यों से आ रहे हैं उन्हें परेशान न किया जाए। उन्हें किसी तरह की परेशानी न हो इसका पूरा ध्यान रखा जाए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप