नई दिल्ली [रजनीश पाण्डेय]। दक्षिणी जिले की साइबर सेल ने तीन ठगों को गिरफ्तार किया है। ये ठग लोगों को एयरलाइंस में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगते थे। आरोपितों की पहचान जगमोहन शर्मा, अभिषेक वर्मा व पुर्खा राम के रूप में हुई है। आरोपितों की निशानदेही पर पुलिस ने दो मोबाइल फोन, दो डेबिट कार्ड को बरामद कर लिया है और आरोपितों के खाते में पड़े 57 हजार रुपये को फ्रीज कर दिया है। तीनों आरोपित मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले हैं। पुलिस आरोपितों से पूछताछ कर यह जानने में जुटी है कि यह गिरोह अब तक कितने लोगों को अपना शिकार बना चुके हैं।

साउथ डिस्ट्रिक्ट के एडिशनल डीसीपी पवन कुमार ने बताया कि खिड़की एक्सटेंशन मालवीय नगर में रहने वाले एक पीड़ित व्यक्ति की शिकायत पर साइबर थाने में ठगी का केस दर्ज किया गया था। पीड़ित ने पुलिस को बताया कि उसने इंटरनेट मीडिया पर रोजगार मेला विज्ञापन में इंडिगो एयरलाइंस में जाब से संबंधित एक विज्ञापन देखा था। उसने दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क किया।

जाब के नाम पर जालसाजों ने उससे चार किस्तों में कुल 20,784 रुपए ठग लिए। आरोपितों ने उसे पेमेंट के दौरान इंडिगो एयरलाइंस के नाम पर बधाई और नियुक्ति-पत्र भी भेजा था। इस केस में जांच के दौरान पता चला कि ठगों ने वीओआइपी काल्स का इस्तेमाल किया। उन्होंने सिम कार्ड और बैंक अकाउंट फर्जी पते पर खोले थे। टेक्निकल सर्विलांस पर इंवेस्टीगेशन केंद्रित कर पुलिस ने आरोपितों की लोकेशन राजस्थान के भीलवाड़ा में ट्रेस की। जिसके बाद गत 28 जून को पुलिस टीम ने राजस्थान पहुंची और तीनों आरोपितों को दबोच लिया।

पकड़े जाने के बाद आरोपितों ने पूछताछ में बताया वे युवाओं को इंडिगो एयरलाइंस और एयर इंडिया एयरलाइंस में जाब दिलाने के नाम पर ठगते थे। वह पिछले आठ-नौ महीने से इस धंधे को कर रहे हैं। ठगी की रकम इंडियन बैंक के अकाउंट में आती थी। पुलिस द्वारा बैंक अकाउंट की डिटेल चेक करने पर पता लगा कि उसमें 10.9 लाख रुपए की लेन-देन हुई थी। आरोपितों में पुरखा राम के ऊपर अजमेर राजस्थान में भी धोखाधड़ी का एक मामला दर्ज पाया गया है।

Edited By: Prateek Kumar