नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। देश की राजधानी दिल्ली में सर्दी का सितम बरकरार है और अभी अगले दो दिन बर्फीली हवाओं से निजात मिलने के आसार भी नहीं हैं। ठिठुरन भरी ठंड का आलम यह है कि सुबह ही नहीं, दिन भी खासे ठंडे हो रहे हैं। दिल्ली में बृहस्पतिवार को न्यूनतम पारा 2.4 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया। मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली के लोधी इलाके में न्यूनतम पारा 2.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सर्दी से तो राहत है, लेकिन सुबह से छाए कोहरे ने दिल्ली-एनसीआर के लोगों को परेशान कर रखा है। 

वहीं स्काईमेट वेदर के मुख्य मौसम विज्ञानी महेश पलावत ने बताया कि ठिठुरन भरी इस ठंड अभी सप्ताह भर तक निजात मिलने के आसार नहीं हैं। न अभी कोई पश्चिमी विक्षोभ आने की संभावना है और न ही बारिश। उन्होंने बताया कि उत्तर पश्चिमी हवाओं के साथ पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में हो रही बर्फबारी का असर दिल्ली तक पहुंच रहा है। लिहाजा, इस पूरे सप्ताह तापमान बढ़ने की कोई खास संभावना नहीं है।

वहीं, इससे पहले बुधवार को तो ठंड ने 2 दशक का रिकॉर्ड तोड़ दिया। इस बार की लोहड़ी 21 सालों की सबसे सर्द रही। बुधवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 18.5 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री कम 3.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इससे पहले 2000 के बाद से अभी तक 13 जनवरी की तारीख का यह सबसे कम न्यूनतम तापमान है। सन 2001 में यह 3.3 डिग्री सेल्सियस रहा था और 2006 में 3.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। हवा में नमी का स्तर 57 से 100 फीसद रहा। 

4 बार 10 डिग्री से अधिक रहा न्यूनतम तापमान

पिछले दो दशक के दौरान चार बार ऐसा भी हुआ है कि जब 13 जनवरी के दिन न्यूनतम तापमान 10 या 10 डिग्री सेल्सियस से अधिक रहा। इन वर्षों में सन 2000, 2004, 2013 और 2016 शामिल हैं।

 

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021