नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में मानसून की झमाझम बारिश के लिए लोगों को थोड़ा और इंतजार करना पड़ेगा। इसकी पीछे बड़ी वजह यह है कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने से मानसून एक्सप्रेस ने जो रफ्तार पकड़ी थी, वह उत्तर पश्चिमी झारखंड और समीपवर्ती इलाकों तक पहुंचकर धीमी पड़ गई है। हालांकि, बरेली, सहारनपुर, अंबाला और अमृतसर को भी मानसून ने आंशिक रूप से छू लिया है, लेकिन दिल्ली-एनसीआर और समूचे हरियाणा-पंजाब को मानसून की झमाझम बारिश के लिए अभी थोड़ा और इंतजार करना पड़ सकता है।

गौरतलब है कि अनुकूल परिस्थितियों के चलते आगे बढ़ते हुए सोमवार को दक्षिणी पश्चिमी मानसून की उत्तरी सीमा अक्षांश 20.5 डिग्री उत्तर और देशांतर 60 डिग्री पूर्व पर दीव, सूरत, भोपाल, हमीरपुर, बाराबंकी, अंबाला, अमृतसर से होकर गुजरी। इस दौरान मानसून की टर्फ रेखा पश्चिमी राजस्थान से उत्तर पूर्व बंगाल तक बनी हुई थी। इससे इन सभी जगहों पर बारिश भी हुई। लिहाजा, यह भ्रम पैदा हो गया कि मानसून ने पंजाब और हरियाणा में भी दस्तक दे दी है, लेकिन भारतीय मौसम विभाग ने इसे सही नहीं बताया है।

सिस्टम नहीं हो पा रहा मजबूत, बारिश के लिए करना होगा इंतजार

मौसम विभाग का कहना है कि अभी तक इन दोनों राज्यों के कुछ उत्तरी हिस्से को ही मानसून ने छुआ है। पूर्ण रूप से यहां मानसून अभी नहीं पहुंचा है। स्काईमेट वेदर के अनुसार मानसून की दस्तक तभी सुनिश्चित हो पाती है जब पूर्वी हवाएं चल रही हों, नमी बढ़ी हुई हो और लगातार कई दिन तक बारिश हो। पूर्वी हवाएं तो चल रही हैं, लेकिन उनमें गहराई ज्यादा नहीं है। मिड लैटीट्यूड यानी दस हजार फीट की ऊंचाई पर पूर्वी की जगह पश्चिमी हवाएं चल रही हैं। इससे सिस्टम मजबूत नहीं हो पा रहा है। लिहाजा, अभी अगले कई दिन तक मानसून आने की संभावना नहीं के बराबर ही लग रही है। मौसम विभाग का भी कहना है कि मध्य अक्षांश की पछुआ हवाओं के कारण उत्तर-पश्चिमी भारत के शेष हिस्सों में मानसून की रफ्तार धीमी पड़ने के आसार हैं।

डॉ. एम महापात्रा (महानिदेशक, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग) के मुताबिक, उत्तरी हरियाणा और पंजाब के कुछ हिस्सों में मानसून ने सोमवार को दस्तक दी है, लेकिन पूरे हरियाणा और पंजाब में मानसून अभी नहीं आया है। दिल्ली-एनसीआर में अभी अगले पांच छह दिन तक इसके आने की कोई संभावना नहीं लग रही। मानसून की रफ्तार फिलहाल धीमी पड़ गई है। बुधवार को मानसून के अपडेट पर औपचारिक स्थिति स्पष्ट की जाएगी।

वहीं, महेश पलावत ( उपाध्यक्ष, स्काईमेट वेदर) का कहना है कि इसमें संदेह नहीं है कि मानसून की रफ्तार धीमी हो गई है और सिस्टम कमजोर पड़ गया है। फिर भी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अगले एक-दो दिन में मानसून की दस्तक हो सकती है। हरियाणा और पंजाब के भी कुछ हिस्सों को मानसून ने सोमवार को छुआ है, लेकिन दिल्ली-एनसीआर सहित उत्तर-पश्चिम भारत के समीपवर्ती इलाकों में मानसून का इंतजार अभी एक सप्ताह तक भी करना पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें- जानिए अभी और कितने महीनों के बाद शुरू हो पाएगा आनंद विहार में बनाया जा रहा स्माग टावर, मिल पाएगी साफ हवा

दिल्ली ने अनाज सड़ा दिया मगर बांटा नहीं, अब सब अन्न पर ही मौन हो गए, पढ़िए स्कूलों में अनाज सड़ने की दास्तान

Edited By: Jp Yadav